पीएम के मुँह में डाल दिया छत्तीसगढ़

रायपुर: प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने छत्तीसगढ़ का नाम भी नहीं लिया और राज्यभर की मीडिया में खबर आई – “छत्तीसगढ़ देश का दूसरा सबसे तेज विकास वाला राज्य: प्रधानमंत्री”

केंद्र सरकार के कुछ मंत्रियों द्वारा छत्तीसगढ़ की तारीफ की खबरें मीडिया में आती रहती है लेकिन ताज़ा मामला प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से जुड़ा हुआ है. छत्तीसगढ़ सरकार के जनसंपर्क विभाग ने 8 मार्च को बजायफ्ता एक विज्ञप्ति जारी करते हुए आँकड़ों के साथ दावा किया कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव में हुई चर्चा के दौरान छत्तीसगढ़ की तारीफ करते हुए उसे देश का दूसरा सबसे तेज विकास वाला राज्य बताया है. जबकि हकीकत ये है कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अपने पूरे भाषण में छत्तीसगढ़ राज्य का नाम ही नहीं लिया.


छत्तीसगढ़ सरकार के जनसंपर्क विभाग द्वारा जारी विज्ञप्ति में कहा गया कि –

देश के नक्शे पर 26 वें नये राज्य के रूप में सिर्फ बारह वर्ष पहले अस्तित्व में आए छत्तीसगढ़ ने विकास की राह पर जिस तेजी से अपने कदम बढ़ाए हैं, आज प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने भी उसकी प्रशंसा की है। प्रधानमंत्री ने राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव में हुई चर्चा का जवाब में कहा कि देश के बीमारू कहे जाने वाले राज्यों ने हाल के वर्षो में बहुत अच्छी प्रगति की है । उन्होंने अपने लिखित भाषण में कहा कि छत्तीसगढ़ देश का दूसरा सबसे तेज गति से विकास करने वाले राज्य के रूप में पहचाना जा रहा है। पहले स्थान पर बिहार है। प्रधानमंत्री के भाषण में उल्लेख किया गया है कि छत्तीसगढ़ की विकास दर वर्ष 2001-02 से 2005-06 में 2.9 प्रतिशत रही थी जो वर्श 2006-07 से वर्ष 2010-11 के बीच बढ़कर औसत 10 प्रतिशत हो गयी। जो देश में बिहार 10.9 प्रतिशत के बाद दूसरे क्रम पर है। प्रधानमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ ने कृषि विकास दर, औद्योगिक विकास दर में भी राष्ट्रीय औसत दर से बेहतर प्रदर्शन किया है। प्रधानमंत्री के भाषण के साथ दी गयी तालिका के अनुसार छत्तीसगढ़ ने हरियाणा 9.7 प्रतिशत विकास दर, महाराष्ट्र 9.6 प्रतिशत, गुजरात 9.3 प्रतिशत, आन्ध्रप्रदेश 9.2 प्रतिशत, कर्नाटक 8.1 प्रतिशत और पंजाब 7.6 प्रतिशत जैसे विकसित राज्यों को पीछे छोड़ दिया है। मध्यप्रदेश भी बीमारू राज्य से सूची से बाहर आ गया है । मध्यप्रदेश की विकास दर बढ़कर 8.8 हो गयी है।

इसके उलट हकीकत ये है कि प्रधानमंत्री ने राज्यसभा में दिए अपने भाषण में छत्तीसगढ़ का नाम ही नहीं लिया है. राज्यसभा की वेबसाइट पर मौजूद प्रधानमंत्री के भाषण में जब छत्तीसगढ़ को तलाशने की कोशिश हुई तो इस गलत खबर की सच्चाई सामने आ गई.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!