मसूद को लेकर दबाव में पाकिस्तान

इस्लामाबाद | समाचार डेस्क: मौलाना अजहर मसूद की दोबारा गिरफ्तारी अंतर्राष्ट्रीय दबाव का नतीजा है. दरअसल में मसूद को गिरफ्तार नहीं किया गया है उसे कस्टडी में रखा गया है. जाहिर है कि पाक अधिकारी उस के खिलाफ़ सबूतों को पुख्ता नहीं मान रहें हैं.

उल्लेखनीय है कि मौलाना अजहर मसूद को इससे पहले भी अंतर्राष्ट्रीय दबाब के चलते नज़रबंद किया गया था तथा बाद में पर्याप्त सबूत न होने के बिना पर रिहा कर दिया गया था. वर्तमान में पाकिस्तान मसूद को हिरासत में लेना अमरीकी दबाव का नतीजा माना जा रहा है.

इससे इंकार नहीं किया जा कता कि मौलाना अजहर मसूद को पाकिस्तानी सैन्य लॉबी का वरदहस्त प्राप्त है. भारत के पठानकोट स्थित वायुसेना अड्डे पर आतंकवादी हमले के आरोपी आतंकवादी संगठन, जैश-ए-मुहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर को हिरासत में ले लिया गया है. जियो टीवी ने अज्ञात सूत्रों के हवाले से बुधवार को कहा अजहर को एक गुप्त स्थान पर ले जाकर उससे पूछताछ की जा रही है. मसूद को पाकिस्तानी सेना के साथ करीबी के लिए जाना जाता है.

इसके अलावा मसूद के भाई मुफ्ती अब्दुल रऊफ को भी हिरासत में लिया गया है.

पाकिस्तान ने पहले कहा था कि पठानकोट हमला मामले में जैश-ए-मुहम्मद के कई कार्यकर्ताओं को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है. संगठन के कार्यालय सील कर दिए गए हैं और जांच जारी है.

माना जा रहा है कि जैश-ए-मुहम्मद से जुड़े 6 पाकिस्तानी आतंकवादी सीमापार कर भारत में घुसे और पठानकोट वायुसेना अड्डे पर हमला किया. इस हमले में 7 सुरक्षाकर्मी मारे गए थे.

यह गिरफ्तारी भारत और पाकिस्तान के बीच 15 जनवरी को इस्लामाबाद में होने वाली विदेश सचिव स्तर की बैठक से पहले की गई है. हालांकि अभी तक भारत ने साफ नहीं किया है कि वह इस बैठक में हिस्सा लेगा या नहीं.

मसूद अजहर समेत दो दूसरे पाकिस्तानी आतंकवादियों को दिसंबर 1999 में भारत ने इंडियन एयरलाइंस के अपहृत यात्रियों के बदले रिहा किया था. आतंकवादियों ने काठमांडू एयरपोर्ट से भारतीय विमान का अपहरण कर लिया था और उसे लेकर अफगानिस्तान के कंधार चले गए थे.

इस विमान अपहरण की योजना मसूद अजहर के भाई इब्राहिम अथर ने बनाई थी. जब भारतीय अधिकारियों ने यात्रियों के बदले तीन आतंकवादियों को छोड़ा था तो वे पाकिस्तान चले गए थे. पाकिस्तान में मसूद अजहर अक्सर भारत के खिलाफ डींगे हांकता था. उसने पठानकोट हमले की भी प्रशंसा की थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *