मोदी ने सियाचिन में मनाई दिवाली

श्रीनगर | एजेंसी: प्रधानमंत्री मोदी ने दीवाली का दिन सैनिकों के साथ गुजारा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को सियाचिन ग्लेशियर पहुंचे, जहां उन्होंने सशस्त्र बलों की सराहना की और भारतीय सैनिकों के लिए एक राष्ट्रीय युद्ध स्मारक बनाने का वादा किया.

मोदी ने दिवाली की शुरुआत सियाचिन में सैनिकों के साथ मुलाकात से की. इसके बाद बाढ़ से प्रभावित हुए लोगों से राजभवन में मुलाकात की. राजभवन में प्रधानमंत्री के कार्यक्रम का मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने बहिष्कार किया.

दुनिया के सबसे ऊंचे युद्ध क्षेत्र पर सैनिकों को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, “मैं खुशनसीब हूं कि देश के सेवक के रूप में मुझे यह देखने का मौका मिला कि किस तरह की कठिन परिस्थितियों में यहां सैनिक रहते हैं.”

मोदी ने सशस्त्र सैनिकों के लिए कार्यकाल के दौरान वन रैंक वन पोजिशन का वादा किया.

मोदी ने कहा, “यह देखना मेरा फर्ज है कि आप तथा आपके परिवार गर्व से रहें.”

मोदी ने ट्विटर पर लिखा, “हर कोई सियाचिन के कठिन हालात से परिचित है. हरेक चुनौतियों को पार करते हुए हमारे जवान मातृभूमि की रक्षा में मजबूती से खड़े हैं.”

सियाचिन ग्लेशियर विश्व का सबसे ऊंचा युद्ध क्षेत्र है, जिसकी ऊंचाई 5,400 मीटर है.

उन्होंने कहा, “चाहे ऊंचाई हो या अत्यधिक ठंड, कोई भी परिस्थिति भी हमारे सैनिकों को डिगा नहीं पाया है. वे वहां खड़े हैं, हमारे देश की सेवा कर रहे हैं. उन्होंने हमें वाकई गौरवान्वित किया है.”

प्रत्येक भारतीय सियाचिन ग्लेशियर में तैनात अपने जवानों के कंधे से कंधा मिलाकर साथ खड़ा है.

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी तथा सशस्त्र सेनाओं के प्रमुख कमांडरों को दिवाली की बधाई देते हुए उन्होंने कहा, “मुझे उम्मीद है कि इस बार प्रणब दा सबसे अनोखी बधाई प्राप्त करेंगे.”

उन्होंने कहा, “शायद पहली बार जवानों के साथ दिवाली मनाने का अद्भुत मौका एक प्रधानमंत्री को मिला है.”

मोदी के सियाचिन जाने की खबरों के बीच पाकिस्तानी रेंजरों ने जम्मू क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय सीमा से लगी भारतीय चौकियों पर गोलीबारी की, जबकि अलगाववादियों द्वारा बुलाए गए बंद का श्रीनगर तथा कश्मीर घाटी में जनजीवन पर असर पड़ा है.

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तानी रेंजरों ने सांबा जिले के रामनगर में सीमा सुरक्षा बल के नरायन सीमा चौकी पर गोलीबारी की.

मोदी ने भाषण में कहा, “हम शांतिपूर्वक इसलिए सोते हैं, क्योंकि आप दिनरात जागते हैं. जल, थल तथा वायु सेना पर राष्ट्र को गर्व है.”

प्रधानमंत्री बनने के बाद यह मेरी पहली दिवाली है. बहादुरों का साथ पाकर मैं बेहद खुश हूं.

मोदी ने कहा कि वह सेना के लिए एक राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का निर्माण करवाना चाहते हैं.

इसी बीच, श्रीनगर की सड़कों से गुरुवार को बसें नदारद रहीं, लेकिन निजी वाहन और ऑटो रिक्शा थोड़ी बहुत संख्या में नजर आए.

श्रीनगर में अधिकांश दुकानें और व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहे. श्रीनगर में बड़ी संख्या में पुलिस और अर्धसैनिक बल तैनात किए गए थे.

मोटरचालकों से उनके पहचान पत्र दिखाने को कहा जा रहा था और पैदल यात्री सड़कों पर काफी कम थे.

अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी ने कहा कि मोदी ने ईद पर कश्मीरी मुसलमानों को बधाई नहीं दी और दिवाली पर कश्मीर दौरा कर ‘जले पर नमक छिड़क’ रहे हैं.

जम्मू एवं लिबरेशन फ्रंट के नेता यासीन मलिक ने बाढ़ पीड़ितों से मोदी की पूर्व तय मुलाकात का उल्लेख करते हुए कहा कि मोदी मानवीय त्रासदी को राजनीतिक रूप दे रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *