‘ग्रामोदय से भारत उदय अभियान’

भोपाल | समाचार डेस्क: प्रधानमंत्री मोदी गुरुवार को ‘ग्रामोदय से भारत उदय अभियान’ की शुरुआत करेंगे. इसे प्रधानमंत्री मोदी की अगले साल हो रहे उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले दलितो को साधने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है. हाल ही में रोहित वेमुला की आत्महत्या के बाद दलितो में भाजपा विरोधी उभार देखा गया था. इस अभियान से उसे अपने पक्ष में मोड़ने की कोशिश की जा रही है. देश में दलितो की संख्या को देखते हुये इस भाजपा की अपनी दलित समर्थक छवि को निखारने की कोशिश माना जा रहा है.

इसी कारण से इसकी शुरुआत भीमराव अंबेडकर के जन्मस्थान मध्यप्रदेश के महू से शुरु किया जा रहा है. इस 10 दिवसीय देशव्यापी अभियान को गांवों तक ही सीमित रखा गया है.


कांग्रेस के मध्यप्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुये कहा, “केंद्र सरकार द्वारा शुरू किया जा रहा अभियान ग्रामोदय और भारत उदय नहीं, बल्कि ‘ग्राम अस्त और भारत अस्त अभियान’ है. ऐसा इसलिए क्योंकि वर्तमान केंद्र सरकार और मध्य प्रदेश सरकार ने पंचायतों से अधिकार छीन कर उसे अधिकार विहीन कर दिया है.”

उन्होंने आरोप लगाया कि, “मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया, अच्छे दिन, स्वच्छ भारत अभियान के लोकलुभावन नारों को जनता समझ चुकी है. गांव का जल, जंगल और जमीन कंपनियों को सौंप रहे हैं, जिसके चलते गांव में नाराजगी चरम पर है. इन हालातों में दूसरी क्रांति जन्म न ले सके, इस मकसद से यह अभियान शुरू किया जा रहा है. दूसरी ओर गांव और दलितों में अपनी राजनीतिक पकड़ मजबूत करने की जुगत भी है.”

विपक्षी दल भले ही इस अभियान को राजनीतिक चश्मे से देख रहे हैं, मगर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसे गांवों के सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन का सम्पूर्ण अभियान बताया है. उन्होंने कहा है कि इस अभियान में सभी के सहयोग और सहभागिता से ग्रामीण मध्य प्रदेश और देश का कायापलट हो जाएगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को इंदौर के महू में संविधान निमार्ता डॉ. भीमराव अंबेडकर की 125वीं जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे, और इस मौके पर वह देशव्यापी ‘ग्रामोदय से भारत उदय अभियान’ की शुरुआत करेंगे. राज्य सरकार ने आयोजन की सभी तैयारियां पूरी कर ली है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को संवाददाताओं को बताया, “महू के अंबेडकर नगर स्थित अंबेडकर स्मारक परिसर में भव्य समारोह होने जा रहा है. इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी देशव्यापी ‘ग्रामोदय से भारत उदय अभियान’ का शुभारंभ करेंगे.”

चौहान ने बताया कि “प्रधानमंत्री मोदी के संबोधन को प्रदेश के प्रत्येक गांव का निवासी सुन सके, इसके लिए प्रत्येक पंचायत में इसकी व्यवस्था की गई है. अभियान को राज्य में जनता का अभियान बनाया जाएगा. प्रधानमंत्री मोदी एक ध्वज सौंपेंगे जो राज्य की हर ग्राम पंचायत तक पहुंचेगा.”

उन्होंने आगे कहा, “यह अभियान गांव की समस्याओं के समाधान में बड़ा मददगार बनेगा. अभियान के दौरान सामाजिक समरसता के कार्यक्रम के अलावा ग्राम, किसान सभाएं होंगी और अधिकारी भी इस दौरान गांव तक जाएंगे, जो ग्रामीणों की समस्याओं का निपटारा करेंगे. देश में यह अभियान 14 से 24 अप्रैल तक चलेगा, मगर प्रदेश में यह अभियान 14 अप्रैल से 31 मई तक जारी रहेगा.”

इस आयोजन को लेकर राज्य सरकार ने एक गीत तैयार कराया है. मुख्यमंत्री चौहान ने बुधवार को भोपाल में आयोजित एक समारोह में इस गीत को जारी किया. गीत को लिखा है वरिष्ठ पत्रकार महेश श्रीवास्तव ने और स्वर दिया है कुमार शानू ने.

चौहान ने गीत जारी करते वक्त इस गीत की लाइनों -“संविधान के दीप पुरुष की जन्म भूमि से घोष है, ग्रामोदय से भारत उदय अभियान के निश्चय का संदेश है’- को भी गुनगुनाया.

इस बीच चौहान बुधवार शाम महू पहुंचे, जहां उन्होंने आयोजन की तैयारियों का जायजा लिया. इस मौके पर उन्होंने कहा कि मोदी देश के पहले ऐसे प्रधानमंत्री हैं, जो महू आकर डॉ. अंबेडकर को श्रद्धासुमन अर्पित करने वाले हैं.

आधिकारिक तौर पर मिली जानकारी के अनुसार, प्रधानमंत्री मोदी गुरुवार अपरान्ह 11 बजकर 45 मिनट पर मुम्बई हवाईअडडे से वायुसेना के विशेष विमान से इंदौर प्रस्थान करेंगे. उनका विमान 12 बजकर 55 मिनट पर इंदौर हवाईअड्डे पर उतरेगा, जहां से वह हेलीकाप्टर से महू रवाना होंगे. मोदी अपराह्न् डेढ़ बजे से ढाई बजे तक अंबेडकर स्मारक में श्रद्धा सुमन अर्पित करने के बाद आयोजित कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे, और उसके बाद अपराह्न् तीन बजकर पांच मिनट पर वह वहां वापस इंदौर हवाईअड्डे पहुंचेंगे. और दिल्ली प्रस्थान कर जाएंगे.

ज्ञात हो कि डॉ. बाबा साहेब अंबेडकर की जन्मस्थली महू में स्थापित स्मारक में वर्ष 2007 से सामाजिक कुंभ की शुरुआत हुई थी. इस स्मारक का 14 अप्रैल, 2008 को लोकार्पण किया गया था. यह स्मारक मकराना के सफेद संगमरमर और मेंगलुरु के ग्रेनाइट से निर्मित है और इस स्मारक को देखने से बौद्ध धर्म के विश्व प्रसिद्ध सांची स्मारक की झलक मिलती है.

ग्रामोदय से भारत उदय अभियान
14 अप्रैल, 2016 को डॉ. भीमराव अम्‍बेडकर की 125वीं जयंती से आरंभ कर और 24 अप्रैल 2016 को पंचायती राज दिवस को समापन करते हुए, 14 अप्रैल से 24 अप्रैल, 2016 के बीच, केंद्र सरकार राज्‍यों और पंचायतों के सहयोग से, ‘ग्रामोदय से भारत उदय अभियान’ का आयोजन करेगी. अभियान का लक्ष्‍य समस्‍त गांवों में पंचायती राज व्‍यवस्‍था को सुदृढ़ करके, सामाजिक सद्भाव बढ़ाने, ग्रामीण विकास को बढ़ावा देने, किसानों की प्रगति और गरीब लोगों की जीविका के लिए राष्‍ट्रव्‍यापी प्रयास करना है. 14 अप्रैल, 2016 को माननीय प्रधान मंत्रीजी मध्‍य प्रदेश के मऊ से ग्राम उदय से भारत उदय अभियान का शुभारंभ करेंगे. 24 अप्रैल, 2016 को माननीय प्रधान मंत्रीजी जमशेदपुर से देश की सभी ग्राम सभाओं को संबोधित करेंगे, जिसे देश के सभी गांवों में लाइव टेलेकास्‍ट और एयर किया जायेगा, जहां ग्रामीण एकत्रित होकर माननीय प्रधानमंत्रीजी के उद्बोधन को सुनेंगे.

*स्‍थानीय आर्थिक विकास के लिए ग्राम पंचायत विकास योजनाएं,
*पंचायती राज संस्‍थाओं को प्रदाय राशि का ठीक उपयोग हेतु उपलब्‍ध निधियां
*स्‍वच्‍छ पेयजल एवं स्‍वच्‍छता
*ग्राम एवं ग्रामीण विकास में महिलाओं की भूमिका
*अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जन जातियों, दिव्‍यांग व अन्‍य हाशिए पर के वर्गों के कल्‍याण सहित सामाजिक समावेशन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!