राष्ट्रीय एकता परिषद से मोदी-शिवराज नदारत

नई दिल्ली | एजेंसी: सोमवार को राष्ट्रीय एकता परिषद की बैठक से मोदी तथा शिवराज नदारत रहें. इस बैठक में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सांप्रदायिक हिंसा की बढ़ती घटनाओं पर रोक लगाने पर जोर दिया और कहा कि इस तरह की घटनाओं में संलिप्त लोगों को दंडित किया जाएगा. प्रधानमंत्री ने कहा, “सरकार को सांप्रदायिक हिंसा फैलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए, फिर चाहे वे कितने ही शक्तिशाली क्यों न हों. यदि किसी भी पार्टी का कोई भी व्यक्ति इस तरह की घटनाओं में संलिप्त पाया जाता है तो उसे दंडित किया जाएगा.”

राष्ट्रीय एकता परिषद की बैठक मे मनमोहन सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में हुई सांप्रदायिक हिंसा के मद्देनजर इस बैठक का एक विशेष महत्व है. प्रधानमंत्री ने कहा, “मुजफ्फरनगर हिंसा में जानमाल का काफी नुकसान हुआ है. पिछले कुछ महीनों के दौरान हमने कश्मीर व असम में भी सांप्रदायिक हिंसा देखी.”

उन्होंने कहा, “सरकार को हिंसा से निपटने के लिए हर संभव कदम उठाने की आवश्यकता है.” गौर तलब है कि मुजफ्फरनगर में सात सितंबर को हुई सांप्रदायिक हिंसा में कम से कम 48 लोग मारे गए थे.

उन्होंने सांप्रदायिक हिंसा भड़काने में सोशल मीडिया के दुरुपयोग पर भी चिंता जताई.

प्रधानमंत्री ने कहा, “सांप्रदायिक हिंसा को भड़काने में सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया गया है. पूर्व में पूर्वोत्तर के लोगों के खिलाफ हिंसा भड़काने में इसका इस्तेमाल हुआ था. हमें सोशल मीडिया का दुरुपयोग रोकने का रास्ता तलाशना होगा.”

उल्लेखनीय है कि इस बैठक से गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी तथा मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह नदारत रहे. इस बैठक में आये बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तथा भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी बड़े ही गर्म जोशी से आपस में मिले.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *