मध्यप्रदेश में गांधी के भरोसे भाजपा

भोपाल | एजेंसी: मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव करीब है, और ऐसे में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) भी अपने को महात्मा गांधी का सच्चा अनुयायी बताने मे जुट गई है.

गांधी जयंती पर भाजपा की ओर से अखबारों में एक इश्तहार जारी कर गांधी की कथित अंतिम इच्छा (कांग्रेस मुक्त भारत) पूरी करने का संकल्प लिया है. संभवत: आजादी के बाद पहला ऐसा मौका होगा, जब भाजपा ने महात्मा गांधी को इस तरह से याद किया है.


इसके लिए राज्य की भाजपा इकाई द्वारा अखबारों में आधा पेज का विज्ञापन जारी किया गया है. इस विज्ञापन में कहा गया है कि कांग्रेस मुक्त भारत ही बापू को सच्ची श्रद्घांजलि है.

भाजपा के इस विज्ञापन में गांधी के उस आलेख के अंश भी है, जो उन्होंने 30 जनवरी, 1948 को आचार्य जुगल किशोर को सौंपा था. यह आलेख गांधी जी के पत्र ‘हरिजन’ में ‘अंतिम इच्छा और वसीयत’ शीर्षक से प्रकाशित है.

भाजपा ने बापू के इस निर्णय के प्रति खुद को समर्पित करते हुए कहा है कि भाजपा और उनकी सरकार गरीबी मुक्त, रोजगार युक्त समृद्घ प्रदेश के निर्माण के लिए संकल्पित है. यह विज्ञापन इंडिया फर्स्ट (सबसे उपर देश हमारा) शीर्षक से जारी किया गया है.

आम मान्यता है कि भाजपा की मातृ संस्था राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ गांधी की घोर विरोधी है. इतना ही नहीं वह देश के विभाजन के लिए गांधी को ही जिम्मेदार मानती है. इसके विपरीत जब से भाजपा ने प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार गुजरात के मुख्यमत्री नरेंद मोदी को बनाया है, तभी से महात्मा गांधी के जरिए कांग्रेस पर हमले बोले जा रहे हैं.

भाजपा के मीडिया प्रभारी हितेश वाजपेयी का कहना है कि भाजपा की पांच निष्ठाओं में से एक है गांधीवादी समाजवाद की स्थापना. भाजपा गांधी जयंती मनाती है, पिछले साल भी प्रतिमाओं पर माल्यार्पण किया था, इस बार विज्ञापन जारी किया है. अपनी बात पहुंचाने का जरिया है विज्ञापन, लिहाजा इसे जारी किया गया है. गांधी की इच्छा पूरी करने का भाजपा ने संकल्प लिया है.

गांधी को वोट की राजनीति से जोड़ने के सवाल पर वाजपेयी का कहना है कि कांग्रेस गांधी की लाश पर राजनीति करती है, हम उनके विचारों पर राजनीति कर रहे हैं, इसमें बुरा क्या है.

भाजपा के विज्ञापन पर कांग्रेस ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह का कहना है कि इन लोगों का लोकतंत्र में भरोसा नहीं रहा है. इनकी मानसिक व शारीरिक भाषा एकाधिकार राज्य की कल्पना है. ये वे लोग हैं, जिन पर महात्मा गांधी की हत्या का आरोप है और यही गांधी के सपने पूरे करने की बात कर रहे हैं.

पहले भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार मोदी का 15 अगस्त को गुजरात से राष्ट्र के नाम संदेश देना और अब मध्य प्रदेश भाजपा द्वारा गांधी जयंती पर विज्ञापन जारी करना भावी राजनीति की ओर इशारा करने वाला है. लगता है कि भाजपा की रणनीति गांधी के जरिए ही कांग्रेस को घेरने की है. लेकिन इस रणनीति में भाजपा कितनी कामयाब होगी, आने वाला वक्त बताएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!