मोदी ने गाये गुजरात के गुण

अहमदाबाद | संवाददाता: गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि भारत में भ्रष्टाचार जिस हालत में है, ऐसा रूप शायद ही किसी देश को देखने मिले. उन्होंने कहा कि करप्शन का इतना घिनौना रूप पहले कभी देखने को नहीं मिला. भष्ट्राचारियों ने कोयले तक को नहीं बख्शा. इस घर को आग लगी घर के चिराग से. किसी को किसी पर भरोसा नहीं रहा.

नरेंद्र मोदी सोमवार को अमरीका और कनाडा में बसे प्रवासी भारतीयों को वीडियो कांफ्रेंसिंग के द्वारा संबोधित कर रहे थे. उन्होंने सरदार सरोवर डैम पर सरदार पटेल की मूर्ति बनाने की घोषणा करते हुये कहा कि स्टैचू ऑफ यूनिटी नाम की यह दुनिया की सबसे उंची मूर्ति होगी.


मोदी ने गुजरात, गुजराती और इसी तरह की दार्शनिक बातों से लबरेज अपने भाषण में कहा कि अमरीका के हर चुनाव में सभी नेता एक बात जरूर कहते हैं कि जब सत्ता में आएंगे तो परिवार व्यवस्था को मजबूत करेंगे. हजारों साल पहले हमारे पूर्वजों ने परिवार व्यवस्था दी. परिवार में रहने वाले लोग मां की कीमत जानते हैं. पृथ्वी मां के रूप में और हम पुत्र के रूप में हैं. जब मां का भाव कम हुआ, पुत्र को अपनी चिंता ज्यादा लगी तब-तब बेचैनी बढ़ी. ग्लोबल वॉर्मिंग बढ़ने की वजह है पृथ्वी का अनादर करना. आइए, मां के इस रूप को प्रणाम करें. मां का गौरव गान करें. इसकी रक्षा करना हमारी जिम्मेदारी हो. आप सब गुजरात दिवस मना रहे हैं. ग्लोबल कम्यूनिटी है गुजराती. दुनिया ने आपके माध्यम से हमको जाना है, मैं आप सबका अभिनंदन करता हूं.

नरेंद्र मोदी ने कहा कि इन दिनों चारों ओर गुजरात की चर्चा हो रही है. दुनियाभर में चर्चा हो रही है कि 21वीं सदी किसकी सदी है? हिन्दुस्तान की हर छोटी-मोटी घटना पर दुनिया की नजर है. भारत में किसी बेटी से रेप होता है तो दुनियाभर में चर्चा होती है. लोग दुखी होते हैं. घटना कोई भी हो दुनिया का ध्यान खींच रहा है भारत. चाहे सरबजीत का मामला हो, पुणे बम ब्लास्ट की घटना हो या फिर सीमा पर हमारे जवानों का सिर काटने का मामला हो. दुनिया में जैसे भारत की अच्छाई की चर्चा हो रही है, वैसे ही बुरी बातों की भी चर्चा हो रही है. हर बारीक बातों का विश्लेषण होना स्वाभाविक है.

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम सर्वांगीण विकास का सपना देख रहे हैं. गुजरात में सिर्फ एक कोने का ही विकास नहीं हो रहा है. यहां चौतरफा विकास हो रहा है. हमने विकास के रूप को बदल दिया है. हमारे विरोधी न जाने क्या-क्या गालियां देंगे, लेकिन जिस रास्ते पर हम गुजरात को ले गए हैं उसकी चर्चा दुनियाभर में हो रही है. हमने राज्य में रास्तों का नेटवर्क बनाया, हर जगह इस बात की चर्चा हो रही है. हमने जो इंफ्रास्ट्रक्चर का नया मॉडल दिया उसकी हर जगह चर्चा हो रही है. तहसीलों तक मेडिकल और इंजिनियरिंग कॉलेजों को पहुंचाया. 10 साल के भीतर 44 यूनिवर्सिटियां खुलीं. एजुकेशन सिस्टम में बदलाव किया. कई नए कोर्सों को राज्य के यूनिवर्सिटियों में लागू करवाया. स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी बनाई क्योंकि दुनियाभर में इसकी मांग है.

नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारे पतंग ने दुनिया में हमारी पहचान बनाई. गरीब पतंग बनाने वालों ने इसे बिजनस का रूप दिया, इसमें जान भर दी. यह आज अरबों-खरबों का बिजनस है. गुजरात पहले भी था, लेकिन जैसा आज है वैसा नहीं था. टूरिजम में गुजरात का डंका बज रहा है. अमिताभ बच्चन भी कह रहे हैं कि जिन्होंने गुजरात नहीं देखा कुछ नहीं देखा. कुछ दिन तो बिताओ गुजरात में. पहले भी सबकुछ था लेकिन विजन नहीं था. हमने रेगिस्तान में जान फूंक दी. हमने रन ऑफ कच्छ में जान फूंक दी. लाखों लोग कच्छ महोत्सव में आते हैं. करोड़ों का बिजनस होता है यहां पर.

नरेंद्र मोदी ने कहा कि टाइगर को बचाने के लिए केंद्र सरकार न जाने कितनी योजनाएं चला रही है, लेकिन शेरों की तरफ किसी का ध्यान नहीं है. राज्य सरकार की नीतियों की बदौलत गुजरात में शेरों की संख्या बढ़ रही है. कुपोषण पर भले ही हमारे विरोधी कुछ भी कहें पर, कैग ने भी अपनी रिपोर्ट में गुजरात के कुपोषण मैनेजमेंट की तारीफ की है. विरोधी इस बात की चर्चा नहीं करते. हम टेक्नॉलजी को गांव-गांव तक पहुंचाना चाहते हैं ताकि विकास के रेस में हमारा राज्य पीछे न हो.गुजरात सरकार की बुराई करने वाली कांग्रेस समर्थित केंद्र सरकार भी हमारे कामों की तारीफ करती है. अवॉर्ड देती है. यकीन न हो तो, आप भारत सरकार की वेबसाइट पर जाकर हमारी उपलब्धियों को देख सकते हैं.

मोदी ने कहा कि दिल्ली की सरकार पर किसी को भरोसा नहीं रह गया है. उसकी नीतियों पर किसी को भरोसा नहीं है. उच्च पदों पर बैठे लोगों के आचरण ने जनता का भरोसा तोड़ा है. दोस्तो, भरोसे में बड़ी ताकत होती है. गुजरात में लोगों को एक-दूसरे पर भरोसा है, इसलिए विकास कर रहे हैं हम. भरोसा टूटने का नतीजा है कि हमें दुकानों पर लिखना पड़ रहा है ‘शुद्ध घी की दुकान’. वरना क्या पहले कभी दुकानों पर ऐसा लिखा देखा था आपने.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!