मंगल पर जीवन को लेकर नासा पर मुकदमा

वॉशिंगटन | एजेंसी: मंगल ग्रह पर जीवन होने को लेकर ईमानदारी से जांच-पड़ताल न करने के लिए अमेरिकी अंतरिक्ष अनुसंधान एजेंसी नासा के खिलाफ मुकदमा चल रहा है. रिप्लेज बीलीव इट ऑर नॉट से यह जानकारी मिली. नासा द्वारा मंगल ग्रह पर भेजे गए यान ‘अपार्चुनीटि’ के सामने दिखे मंगल ग्रह के रहस्यात्मक चट्टान को लेकर यह मुकदमा किया गया है.

याचिकाकर्ता रहान जोसेफ का मानना है कि इससे मंगल ग्रह पर परग्रहवासियों के जीवन का प्रमाण मिलता है, लेकिन नासा इस संदर्भ में आगे अनुसंधान करने का इच्छुक नहीं है.


जोसेफ का कहना है, “शैवाल या कवक तथा सायनोबैक्टीरिया से मिलकर बने इस कुकुरमुत्ते के आकार के मिश्रित जीव को पृथ्वी पर एपोथीसियम के नाम से जाना जाता है.”

‘पॉपुलर साइंस’ में प्रकाशित रपट के अनुसार जोसेफ ने खुद को खगोल जीवविज्ञानी बताया है तथा विश्व की प्रमुख शोध पत्रिकाओं में अपने शोध पत्र प्रकाशित होने का दावा किया है.

नासा के मंगलयान ‘अपार्चुनीटि’ से जुड़े शीर्ष वैज्ञानिक स्टीव स्क्वायर्स ने कथित तौर पर कहा है कि इस चट्टान के उद्भव को लेकर संदेह बना हुआ है, तथा रहस्यात्मक है. इस चट्टान को लेकर उनकी शोध टीम अभी पसोपेश में है कि आखिर मंगलग्रह पर वह चट्टान कहां से आया.

वैज्ञानिकों का अनुमान है कि यह चट्टान मंगल से टकराए किसी उल्का पिंड का टुकड़ा हो सकता है, या मंगल पर भेजे गए रोवर ‘अपार्चुनीटि’ के चलने से यह चट्टान मंगल की सतह के नीचे से उभरकर ऊपर आ गया होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!