बिलासपुर से महिला नक्सली गिरफ्तार

बिलासपुर| छत्तीसगढ़ संवाददाता: बालाघाट पुलिस ने पिछले तीन दिनों तक छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव, बिलासपुर और गोंदिया के सीमावर्ती इलाके में दबिश देकर एक महिला सहित तीन नक्सलियों को गिरफ्तार करने का दावा किया है. बिलासपुर तोरवा थाना क्षेत्र के अंतर्गत लाल खदान से गिरफ्तार की गई कथित महिला नक्सली पर 15 हजार रुपए का इनाम भी घोषित था. यह महिला लंबे समय से यहां रह रही थी और स्थानीय पुलिस को खबर तक नहीं थी.

15 जुलाई को तड़के सुबह बालाघाट पुलिस की एक टीम बिलासपुर जिले के तोरवा थाने पहुंची थी. टीम में एक महिला आरक्षक भी शामिल थी. टीम के सदस्यों ने स्थानीय पुलिस की मदद से लाल खदान क्षेत्र में निवास कर रही कमला बाई को गिरफ्तार कर बालाघाट ले गई है. पुलिस का कहना है कि डीएफ, सीआरपीएफ 123 वीं बटालियन, हॉक फोर्स और कोबरा बटालियन की संयुक्त टीम ने बिलासपुर में छापामारी की थी. पुलिस के अनुसार बालाघाट के लांजी थाना के ग्राम शेरपार निवासी महिला नक्सली कमला का पति स्व. सुखमन गोंड भी नक्सली था, जो पुलिस मुठभेड़ में मारा गया. इसके अलावा भाई चेतन व पिता अमीलाल भी नक्सली संगठनों से संबद्ध रहे हैं.

इस संबंध में एडीजी नक्सल आर.के.विज एवं बिलासपुर रेंज आईजी राजेश मिश्रा से संपर्क करने पर उनका कहना था कि खबर की पुष्टि की जा रही है. वहीं बिलासपुर जिले के तोरवा थाना प्रभारी श्री नेताम ने बताया कि 15 जुलाई की तड़के सुबह बालाघाट पुलिस की एक टीम वहां पहुंची थी. उन्होंने एक महिला के तीन-चार गिरफ्तार वारंट दिखाते हुए पेट्रोलिंग गाड़ी की मांग की थी. उन्होंने बालाघाट पुलिस की मदद की. लाल खदान क्षेत्र से एक महिला को गिरफ्तार किया गया है. महिला के बारे में इसके अलावा उन्हें और कोई जानकारी नहीं है.

बालाघाट पुलिस अधीक्षक सचिन अतुलकर ने हमारे राजनांदगांव संवाददाता को बताया कि बालाघाट पुलिस की अलग-अलग टीमों ने छत्तीसगढ़ के बिलासपुर, राजनांदगांव और गोंदिया के सीमावर्ती इलाके में पिछले तीन दिनों तक लगातार दबिश दी. बिलासपुर तोरवा थाना क्षेत्र के अंतर्गत लाल खदान से एक महिला नक्सली कमला बाई को गिरफ्तार किया गया है. इस महिला नक्सली पर 15 हजार रुपए का इनाम घोषित था. कमला बालाघाट लांजी पुलिस अनुभाग शेरपाल गांव की रहने वाली है. उसके खिलाफ लांजी, बैहर, रूपझर सहित कई थानों में हत्या, लूट और मुठभेड़ के मामले दर्ज हैं. बताया गया यह महिला सन 2000 तक बालाघाट क्षेत्र में नक्सल वारदातों में सक्रिय रही है.

श्री अतुलकर ने बताया कि राजनांदगांव के भावे गांव से भरत और गोंदिया जिले से लगे हुए सीमावर्ती रजे गांव से विनय टेकाम को गिरफ्तार किया गया है. भरत 1992 से 2000 के बीच नक्सल गतिविधियों में सक्रिय रहा है. बताया गया भरत और विनय टाडा दलम में सक्रिय सदस्य थे. ये दोनों राजनांदगांव, गोंदिया और बालाघाट के सीमावर्ती इलाकों में सक्रिय थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *