ओबामा सौदेबाजी के मूड में नहीं

वाशिंगटन | समाचार डेस्क: अमरीकी राष्ट्रपति कर्ज की सीमा बढ़ाने को लेकर रिपब्लिकनो से टकराव के मूड में हैं. उन्होंने स्पष्ट कर दिया है कि वह अपने रिपब्लिकन विरोधियों से कोई सौदेबाजी नहीं करेंगे और वित्तीय अस्थिरता की स्थिति दोबारा पैदा नहीं की जानी चाहिए.

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने व्हाइट हाउस में वर्षात के मौके पर आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि अमरीकी सांसदों को चाहिए कि वे समय-समय पर संघीय सरकार की ऋण लेने की सीमा बढ़ाते रहें और हाल के द्विदलीय बजट समझौते के बाद संभावित कर सुधारों को आगे बढ़ाते रहें.

छुट्टियां बिताने के लिए अपने परिवार के साथ हवाई जाने से पहले राष्ट्रपति ने यह बयान दिया. ओबाम ने जोर देकर कहा, “यह कोई सौदेबाजी का औजार नहीं है. यह लाभ के लिए नहीं है.”

ओबामा ने चेतावनी दी कि ऋण सीमा पर वित्तीय अस्थिरता की नीति अपनाने से देश एक नए संकट में फंस सकता है. ओबामा ने उम्मीद जताई कि सरकारी बजट पर दोनों दलों के बीच हुए ताजा समझौते से अगले वर्ष एक अच्छे तरीके का निर्माण होगा.

गौरतलब है कि एक अक्टूबर के बाद से संघीय सरकार का कामकाज 16 दिनों तक इसी कर्ज सीमा के कारण ठप हो गया था. अमरीकी कांग्रेस ने इसके बाद एक कम अवधि का बजट स्वीकृत किया, जो केवल 15 जनवरी तक के लिए है और ऋण सीमा सात फरवरी तक है. ज्ञात्वय रहें कि अमरीका पर 170 खरब डॉलर का कर्ज है.

यह सर्वज्ञात तथ्य है कि अमरीका में किसी भी तरह की आर्थिक अस्थिरता पूरे दुनिया के बाजारो में अपना प्रभाव डालती है. इसी कारण से अमरीकी राष्ट्रपति के रुख पर दुनिया की नजर रहती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *