बिहार सरकार का लोटा उल्टा: मोदी

गया | समाचार डेस्क: प्रधानमंत्री मोदी ने कहा बिहार सरकार के उल्टे लोटे की वजह से विकास नहीं हो रहा है. उन्होंने कहा कि गंगा के धारा के विपरीत लोटा रखने से पानी नहीं मिलता. जाहिर है कि प्रधानमंत्री मोदी बिहार की जनता को संदेश देना चाह रहे थे कि राज्य में भी भाजपा की सरकार होने पर विकास तेज होगा. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को यहां कहा कि आगामी बिहार विधानसभा चुनाव जंगलराज और अहंकारी व्यक्ति से मुक्ति का पर्व होगा. मोदी ने लोगों से बिहार में फिर जंगलराज नहीं आने देने की अपील की. मोदी, अक्टूबर-नवंबर में प्रस्तावित बिहार विधानसभा चुनाव के सिलसिले में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के पक्ष में यहां एक रैली को संबोधित कर रहे थे.

मोदी ने कहा, “मैं साफ देख रहा हूं कि बिहार की जनता ने दो फैसले कर लिए हैं. पहला फैसला एक आधुनिक नया बिहार बनाने का है. दूसरा फैसला परिवर्तन का है. जिनके जुल्म, अहंकार और धोखाधड़ी को पिछले 25 सालों से झेला है, उससे मुक्त होने का, जंगलराज से मुक्ति का पर्व आने वाला है.”

मोदी ने कहा, “गंगाजी तो बहती हैं, लेकिन अगर हम उल्टा लोटा लेकर जाएंगे तो एक बूंद हाथ नहीं लगेगा. उसी तरह दिल्ली की सरकार विकास की गंगा बहाना चाहती है, लेकिन यहां की सरकार लोटा उल्टा कर बैठी है.”

उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि ‘जंगलराज’ को फिर से वापस न आने दें. मोदी ने राष्ट्रीय जनता दल को ‘रोज जंगलराज का डर’ करार दिया, जबकि जनता दल युनाइटेड को ‘जनता का दमन उत्पीड़न’ बताया.

मोदी ने लालू प्रसाद पर तंज कसा, “अब जंगलराज के साथ जेल का अनुभव भी जुड़ गया है. इस कारण अब बर्बादी की संभावना ज्यादा बढ़ गई है.”

मोदी ने पांच साल में बिहार को बीमारू राज्य से बाहर निकालने का वादा किया, लेकिन यह भी कहा कि अगर ‘जंगलराज भाग-दो’ आया तो सब कुछ बर्बाद हो जाएगा.

मोदी ने ज्ञानस्थली बोधगया के बारे में कहा, “जिन-जिन देशों में बुद्घ का प्रभाव है, वहां के लोग इस पर्यटक स्थल पर आना चाहते हैं. परंतु परिस्थितिवश यहां नहीं आ पाते.”

मोदी ने सवालिया लहजे में कहा, “क्या हमें गया को ऐसा नहीं बनाना चाहिए जिससे दुनिया भर के लोग यहां आएं. इतनी बड़ी संख्या में लोग आएंगे तो क्या यहां गरीबी रहेगी.”

मोदी ने बिहार की शिक्षा और बिजली समस्या को लेकर भी नीतीश कुमार पर निशाना साधा.

बिहार में विधानसभा चुनाव में मुख्य मुकाबला भाजपा गठबंधन और राजद-जदयू गठबंधन के बीच होने की संभावना है.

मोदी की रैली के लिए सुबह से ही गांधी मैदान में भीड़ जमा होने लगी थी. गांधी मैदान में प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति की पूरी जांच की जा रही थी.

इस रैली में भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह, केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान, रामकृपाल यादव, उपेन्द्र कुशवाहा, राजीव प्रताप रूड़ी, राधामोहन सिंह सहित राजग के कई नेता और जनता दल युनाइटेड के कई बागी विधायक उपस्थित रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *