मिल-बैठ कर माओवाद का हल-मोदी

दंतेवाड़ा | संवाददाता: प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कंधे पर हल ही समस्या का हल है गन नहीं. उन्होंने कहा कि आज नक्सबाड़ी में भी हिंसा बंद हो चुका है. उन्होंने कंधे से गन उतार कर हल थामने की अपील की. उन्होंने कहा कि हिंसा का न तो कोई भविष्य है न ही उससे किसी समस्या का हल निकाला जा सकता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज दंतेवाड़ा में एक सभा को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि माओवादी 5 दिन बंदूक छोड़ कर देखें. कंधे पर बंदूक से नहीं कंधे पर हल से समस्या सुलझ सकती है. उन्होंने यह भी कहा कि मिल-बैठ कर रास्ते निकल सकते हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अगर छत्तीसगढ़ इस संकट से मुक्त हो जाये तो छत्तीसगढ़ आर्थिक मामलों में देश में पहले नंबर पर पहुंच सकता है.

कांग्रेस पर निशाना साधते हुये नरेंद्र मोदी ने कहा कि जो विजय नहीं पचा पाये 60 साल तक, वो पराजय भी नहीं पचा पा रहे हैं. जिन्हें जनता ने नकार दिया है, उनके पास झूठ फैलाने के अलावा, जनता को भ्रमित करने के अलावा कोई चारा नहीं है.

उन्होंने कहा कि पहले अखबारों में केवल भ्रष्टाचार और घोटालों की खबरें छपती थीं लेकिन पिछले एक साल में भ्रष्टाचार की एक खबर नहीं आई. मेरा अनुभव है कि देश को ईमानदारी से चलाया जा सकता है.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बस्तर के लोगों को यहीं रोजगार मिलना चाहिये. इसके लिये यहा लगने वाला अल्ट्रा मेगा स्टील प्लांट उन्हें रोजगार के अवसर उपलब्ध करवायेगा. प्रधानमंत्री मोदी ने विकास के लिये रोजगार को सबसे आवश्यक कहा. मोदी ने कहा कि नौजवानों को जब तक रोजगार न दिलाया जा सके तब तक विकास कैसे माना जाये.

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत गोंडी बोली में शुभकामनायें देते हुये की. प्रधानमंभी मोदी ने रायपुर में शुक्रवार को घायल हुये पुलिस-कमर्चारियों की शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की. प्रधानमंत्री मोदी ने एक जिले के लिये हुये 24 हजार करोड़ रुपये के निवेश के समझौते का एक बड़ा समझौता बताया. उन्होंने कहा कि किसी राज्य के लिये केवल 5 हजार करोड़ रुपयों का निवेश भी बड़ा माना जाता है. उसकी तुलना में आज हुये 24 हजार करोड़ रुपयों के निवेश को बस्तर के विकास को गति देने वाला कहा.

प्रधानमंत्री के पहले छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने आमसभा को संबोधित करते हुये कहा कि बस्तरिया संस्कृति ईमानदारी की संस्कृति है. उन्होने बस्तर के लोगों को उनके यहा 24 हजार करोड़ रुपयों के परियोजना के लिये समझौते के लिये बधाई दी. रमन सिंह ने कहा कि यह बस्तर के वासियों को प्रधानमंत्री मोदी की सौगात है.

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी छत्तीसगढ़ के आदिवासी बहुल दंतेवाड़ा जिले के दौरे पर शनिवार सवेरे भारतीय वायु सेना के विशेष विमान द्वारा नई दिल्ली से जगदलपुर पहुंचे.

हवाई पट्टी पर छत्तीसगढ़ के राज्यपाल बलरामजी दास टंडन और मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रधानमंत्री का गर्मजोशी के साथ आत्मीय स्वागत किया. इस अवसर पर स्थानीय विधायक संतोष बाफना, प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव विवेक ढांड और पुलिस महानिदेशक ए.एन. उपाध्याय सहित अनेक स्थानीय जनप्रतिनिधियों और प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी प्रधानमंत्री का स्वागत किया.

हवाई पट्टी पर कुछ देर रूकने के बाद प्रधानमंत्री मोदी मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के साथ भारतीय वायु सेना के हेलीकॉप्टर द्वारा दंतेवाड़ा के लिए रवाना हो गए.

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी का यह पहला छत्तीसगढ़ प्रवास है. उन्होंने अपने इस इस संक्षिप्त प्रवास के दौरान बस्तर राजस्व संभाग के दक्षिण बस्तर दंतेवाड़ा में नक्सल हिंसा पीड़ित सम्पूर्ण बस्तर अंचल के विकास के लिए लगभग 24 हजार करोड़ रूपए के विशेष पैकेज के रूप में दो विशाल परियोजनाओं की सौगातें दी, जिनमें दो हजार करोड़ रूपए लागत की रावघाट-जगदलपुर 140 किलोमीटर रेल लाइन परियोजना और करीब 18 हजार करोड़ रूपए लागत की अल्ट्रा मेगा स्टील प्लांट की परियोजना शामिल हैं.

इन परियोजनाओं का निर्माण केन्द्र सरकार के सार्वजनिक उपक्रमों द्वारा किया जाएगा. प्रधानमंत्री की उपस्थिति में दंतेवाड़ा में इन परियोजनाओं के लिए समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए. अल्ट्रा मेगा स्टील प्लांट की परियोजना के अलावा राष्ट्रीय खनिज विकास निगम द्वारा चार हजार करोड़ रूपए का निवेश बस्तर अंचल में किया जाएगा.

इसके अन्तर्गत बचेली और किरन्दुल में 1675 करोड़ रूपए की लागत से दस मिलियन टन वार्षिक क्षमता का आयरन ओर प्रोसेसिंग प्लांट, 800 करोड़ रूपए की लागत से नगरनार में दो मिलियन टन वार्षिक क्षमता का पेलेट प्लांट और किरन्दुल/बचेली से नगरनार तक स्लरी पाइप लाईन तथा अन्य कार्यों के लिए 1525 करोड़ रूपए का निवेश किया जाएगा. इस प्रकार बस्तर अंचल में लगभग 24 हजार करोड़ रूपए का निवेश होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *