सलाह, स्कूलों में दिखाया जाए पोर्न

लंदन | एजेंसी: डेनमार्क में स्कूलों में कक्षा 9वीं से पोर्न फिल्म दिखाया जाने वाला है. पूरी दुनिया में शिक्षाविदों के बीच जहां यौन शिक्षा को स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल करने पर अभी बहस जारी है, वहीं डेनमार्क के एक सेक्स विशेषज्ञ ने कक्षा में ही पोर्न फिल्में दिखाए जाने की सलाह दे डाली है. समाचार पत्र ‘द गार्डियन’ में प्रकाशित रपट में आलबोर्ग विश्वविद्यालय के प्रोफेसर क्रिस्टियन ग्रॉगार्ड के हवाले से कहा गया है कि इससे बच्चों को कर्तव्यनिष्ठ और ईमानदार उपभोक्ता बनाने में मददगार साबित हो सकती है और बच्चे पोर्न तथा वास्तविक जीवन के यौन संबंध के बीच के अंतर को ज्यादा अच्छी तरह समझ सकते हैं.

ग्रॉगार्ड ने कहा, “मेरा सुझाव है कि अच्छी तरह प्रशिक्षित शिक्षकों की मदद से आठवीं और नौवीं कक्षा के बच्चों के साथ संवेदनात्मक शिक्षाप्रद तरीके से पोर्न पर गंभीर बहस की जानी चाहिए.”

उल्लेखनीय है कि डेनमार्क में 1970 से ही यौन शिक्षा स्कूली पाठ्यक्रम का अनिवार्य हिस्सा है और कई स्कूलों के पाठ्यक्रमों में तो पोर्न को भी शामिल कर लिया गया है. हालांकि डेनमार्क के सभी स्कूलों में अभी इसे शुरू नहीं किया गया है.

इससे पहले प्रोफेसर ग्रॉगार्ड डेनमार्क के सरकारी प्रसारक ‘डीआर’ से कह चुके हैं कि कक्षा में पोर्न फिल्में दिखाना यौन शिक्षा से बेहतर है, क्योंकि यौन शिक्षा के अंतर्गत ककड़ी के ऊपर कंडोम पहनाने जैसी शिक्षण विधि अब पुरानी और उबाऊ हो चुकी है.

प्रोफेसर ग्रॉगार्ड के अनुसार, “अब हम अनुसंधान के जरिए जान चुके हैं कि अधिकांश किशोर पोर्न काफी कम उम्र से ही पोर्न से परिचित हो चुके होते हैं. इसका मतलब यह है कि आप उन्हें कक्षा में पहली बार पोर्न नहीं दिखाएंगे.”

डेनमार्क दुनिया का पहला देश है, जिसने 1967 में सबसे पहले पोर्न से प्रतिबंध समाप्त कर दिया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *