मोदी सरकार दंगों में शामिल-राहुल

नई दिल्ली | संवाददाता: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा है कि 2002 के दंगे में गुजरात सरकार शामिल थी. राहुल गांधी 1984 के सिख विरोधी दंगे और 2002 के गुजरात जनसंहार पर पूछे गये सवाल का जवाब दे रहे थे. उन्होंने कहा कि गुजरात और 1984 में अंतर यह है कि 2002 के दंगों में गुजरात की सरकार शामिल थी.

टाइम्स नाउ के संपादक अर्णब गोस्वामी ने राहुल गांधी से साक्षात्कार में पूछा कि जब अदालत ने मोदी को क्लीन चिट दे दी है तो वह उन्हें ज़िम्मेदार क्यों ठहरा रहे हैं, इस पर राहुल गांधी ने कहा कि गुजरात के दंगे जब हुए तब वह मुख्यमंत्री थे. गुजरात सरकार दरअसल दंगों को और भड़का और बढ़ा रही थी. यह मैंने नहीं, बड़ी संख्या में लोगों ने देखा कि दंगों में गुजरात सरकार सक्रियता से शामिल थी.


राहुल गांधी से जब यह पूछा गया कि क्या वह 1984 के दंगों के लिए माफ़ी मांगेंगे, तो राहुल गांधी का कहना था कि सबसे पहले, मैं इन दंगों में बिल्कुल भी शामिल नहीं था. कुछ कांग्रेसी लोग 1984 के सिख विरोधी दंगों में शायद संलिप्त थे और इसके लिए उन्हें सज़ा दी गई है.

यह पूछे जाने पर कि क्या वह कांग्रेस की ओर से प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार नहीं बनकर मोदी से सीधी टक्कर से बच रहे हैं, राहुल ने कहा-यह सवाल समझने के लिए, आपको कुछ समझना पड़ेगा, राहुल गांधी कौन हैं और फिर इस सवाल का आपको उत्तर मिलेगा कि राहुल गांधी किससे डरते हैं और किससे नहीं.राहुल गांधी ने कहा कि भाजपा सत्ता को एक व्यक्ति के पास केंद्रित करने में विश्वास रखती है. मैं इससे मौलिक रूप से असहमत हूं. मैं लोकतंत्र में विश्वास रखता हूं.

जब उनसे पूछा गया कि अगर कांग्रेस चुनाव नहीं जीतती है, तो क्या वह इसकी ज़िम्मेदारी लेंगे, राहुल ने कहा कि अगर हम नहीं जीते तो मैं पार्टी का उपाध्यक्ष हूं और मैं जिम्मेदारी लूंगा. साफ़ मुद्दा है कि इस देश में प्रधानमंत्री किस तरह चुना जाता है. उन्होंने कहा कि हमारे सिस्टम में सांसद चुने जाते हैं और वे प्रधानमंत्री चुनते हैं. चुनाव से पहले ही पीएम उम्मीदवार के ऐलान का मतलब है कि आप सांसदों से पूछे बिना ही अपने प्रधानमंत्री को चुन रहे हैं, और हमारा संविधान ऐसा नहीं कहता.

अर्णब गोस्वामी ने राहुल गांधी से पूछा कि सुब्रह्मण्यम स्वामी आपकी शैक्षणिक डिग्री पर सवाल उठाते हैं और कहते हैं कि कैंब्रिज में आपकी एमफ़िल डिग्री की कोई थीसिस ही नहीं है. इस सवाल पर उन्होंने कहा- मैं कैंब्रिज में ट्रिनिटी में था. मैंने एक साल वहां गुजारा और मैंने वहीं एमफ़िल किया. मैंने हलफ़नामे दाखिल किए हैं कि मेरे पास ये डिग्रियां हैं. अगर मैं झूठ बोल रहा हूं तो उन्हें क़ानूनी प्रक्रिया अपनानी चाहिए. वो मेरे परिवार पर 40 साल से हमले कर रहे हैं. मैं क्यों उन्हें चुनौती दूं? राहुल गांधी ने कहा कि इस तरह के हमलों का जवाब देना गैरज़रुरी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!