राहुल की ‘किसान संदेश यात्रा’

निर्मल | समाचार डेस्क: राहुल गांधी ने आत्महत्या करने वाले किसानों के परिवार वालों को सांत्वना देने के लिए शुक्रवार को तेलंगाना के अदिलाबाद जिले में ‘पदयात्रा’ की शुरुआत की. इससे पहले उन्होंने पंजाब तथा महाराष्ट्र में पद यात्रा की. राहुल गुरुवार रात महाराष्ट्र के नांदेड़ पहुंचे थे, जहां से वह निर्मल आए हैं और शुक्रवार सुबह यहां से चार किलोमीटर दूर कोरातिकल गांव से ‘किसान संदेश यात्रा’ शुरू की. राहुल के साथ कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह और तेलंगाना की कांग्रेस इकाई के शीर्ष पदाधिकारी भी मौजूद थे.

कांग्रेस नेता दो मई को फसल की बर्बादी के कारण खुदकुशी कर लेने वाले किसान वेल्मा राजेश्वर के घर गए. उन्होंने किसान की पत्नी और बच्चे से मुलाकात की तथा उनके प्रति संवेदना जताई.


राहुल से किसान के परिवार ने तेलुगू में बात की, जबकि कांग्रेस पार्टी के तेलंगाना इकाई के अध्यक्ष उत्तम कुमार रेड्डी ने उन्हें उनकी समस्या को समझाने में मदद की.

कांग्रेस नेता ने परिवार को एक लाख रुपये की वित्तीय मदद भी दी.

सैकड़ों कार्यकर्ताओं और नेताओं के साथ राहुल फिर लक्ष्मणानंद गांव दो किसानों के परिवार वालों से मिलने गए, जिन्होंने खुदकुशी कर ली थी.

उन्होंने खुदकुशी करने वाले किसान बांदला लिंगाना के घर का दौरा किया और उनकी पत्नी तथा बच्चों को सांत्वना दी. परिवार के सदस्यों के साथ घर के फर्श पर बैठकर राहुल ने उनसे उनकी समस्याओं के बारे में पूछा.

लिंगाना की पत्नी ने कांग्रेस नेताओं को बताया कि उनके पति ने फसल की बड़ी क्षति और पांच लाख रुपये का ऋण महाजन को न चुका पाने के कारण खुदकुशी कर ली थी. राहुल ने उसके परिवार को दो लाख रुपये का चेक दिया और उनसे तीनों बेटियों की उचित शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए कहा.

वह पदयात्रा में 12 किलोमीटर के दायरे में पांच गांवों का दौरा करेंगे. वह किसानों से मिलेंगे तथा खेतों का भी दौरा करेंगे.

राहुल ने पंजाब और महाराष्ट्र में भी ऐसी ही पदयात्रा की थी, वह वडियाल में एक बैठक को संबोधित करेंगे, जहां उनकी पदयात्रा का अंत होगा.

राहुल हैदराबाद आकर निर्मल जाने वाले थे, लेकिन अंतिम क्षण में उनका कार्यक्रम बदल गया.

वह गुरुवार रात सात बजे के करीब नांदेड़ पहुंचे और सड़क मार्ग से निर्मल के लिए रवाना हुए. वह रात 10 बजे निर्मल पहुंचे.

आंध्र प्रदेश के विभाजन के बाद यह राहुल का पहला तेलंगाना दौरा है. उनकी इस यात्रा से राज्य में पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ गया है और पार्टी कार्यकतओं में काफी उत्साह है, जिसकी झलक पदयात्रा में भी दिखी, जहां बड़ी संख्या में कार्यकर्ता नजर आए.

पदयात्रा में कांग्रेस के सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद हैं. राज्य की सभी 119 विधानसभाओं से करीब दो-दो सौ कार्यकर्ता इसमें हिस्सा ले रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *