SC ने पढ़ाया लोकतंत्र का पाठ- राहुल

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: सुप्रीम कोर्ट द्वारा नबाम तुकी सरकार की बहाली को राहुल ने लोकतंत्र का पाठ पढ़ाना कहा है. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने तुरंत अपनी प्रतिक्रिया में सर्वोच्य न्यायालय को प्रधानमंत्री को लोकतंत्र का पाठ पढ़ाने के लिये धन्यवाद दिया है. वहीं, दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने इस अवसर पर कहा कि इससे मोदीजी सबक सीखेंगे तथा लोकतांत्रिक ढ़ंग से निर्वाचित सरकारों में हस्तक्षेप करना बंद करेंगे. उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को अरुणाचल के बर्खास्त मुख्यमंत्री नबाम तुकी की कांग्रेस सरकार बहाल करने का आदेश दिया है.

न्यायालय ने राज्यपाल ज्योति प्रसाद राजखोवा के दिसंबर 2015 में राज्य विधानसभा का सत्र समय से पहले बुलाने के फैसले को असंवैधानिक करार देते हुए निरस्त कर दिया. सर्वोच्च न्यायालय के इस फैसले को उत्तराखंड के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार के लिए एक और झटके के रूप में देखा जा रहा है.


न्यायमूर्ति जे. एस. केहर की अध्यक्षता वाली संवैधानिक पीठ ने एकमत से फैसला सुनाते हुए राज्य में 15 दिसंबर, 2015 से पहले की स्थिति बहाल करने के आदेश दिए हैं. पीठ ने विधानसभा द्वारा इसके बाद लिए गए सभी निर्णयों को खारिज कर दिया.

न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा तथा न्यायमूर्ति मदन बी. लोकुर ने भी न्यामूयर्ति केहर से सहमति जताई.

न्यायालय के आदेश पर प्रतिक्रिया-

पूर्व मुख्यमंत्री नबाम तुकी
तुकी ने कहा, “सर्वोच्च न्यायालय ने आज ऐतिहासिक फैसला दिया है.” उन्होंने कहा कि इससे देश में लोकतंत्र की सुरक्षा में मदद मिलेगी. यह ऐतिहासिक व महत्वपूर्ण निर्णय है. तुकी ने कहा, “सर्वोच्च न्यायालय के आदेशानुसार हमारी सरकार बहाल होगी. मैं राज्य जाऊंगा और कांग्रेस के सभी 47 विधायकों से बात करूंगा. हम एक बैठक बुलाएंगे.”

अरविंद केजरीवाल
आम आदमी पार्टी के नेता ने ट्वीट कर कहा, “सर्वोच्च न्यायालय का फैसला तानाशाह मोदी सरकार को करारा जवाब है. उम्मीद है मोदीजी इससे सबक सीखेंगे और लोकतांत्रिक ढंग से निर्वाचित सरकारों के मामलों में हस्तक्षेप करना बंद करेंगे.”

भाजपा
भाजपा नेता श्रीकांत शर्मा ने कहा, “यह भाजपा के लिए झटका नहीं है. अरुणाचल प्रदेश में राजनीतिक संकट प्रदेश कांग्रेस के अंदरूनी मतभेदों के कारण था.” उन्होंने कहा कि कांग्रेस का एक गुट पार्टी नेतृत्व से अलग हो गया था. भाजपा का उससे कोई लेना देना नहीं है. शर्मा ने कहा, “यह स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि कांग्रेस में नेतृत्व का संकट है. अरुणाचल प्रदेश संकट के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराना अनुचित होगा.”

राहुल गांधी
कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को प्रधानमंत्री को ‘लोकतंत्र का पाठ पढ़ाने’ के लिए सर्वोच्च न्यायालय को धन्यवाद दिया.

माकपा
माकपा ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय की पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने केंद्रीय हस्तक्षेप से अरुणाचल प्रदेश में सत्ता परिवर्तन को पलट दिया और हमारे संविधान की अनुल्लंघनीय संघीय विशेषता को बरकरार रखा. माकपा ने कहा, “उत्तराखंड के बाद शीर्ष अदालत का फैसला भाजपा नीत केंद्र सरकार की राजनीतिक नैतिकता व जवाबदेही पर सवाल खड़े करता है.” माकपा ने कहा, “केंद्र सरकार को इस असंवैधानिक निर्णय के लिए जवाबदेही जरूर तय करनी चाहिए.”

सुप्रीम कोर्ट के अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस सरकार बहाल करने के फैसले को बागी नेता कालिखो पुल चुनौती देंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!