रायपुर के कांग्रेस भवन में जमकर हंगामा

रायपुर | एजेंसी: रायपुर से लोकसभा प्रत्याशी तय किए जाने को लेकर कांग्रेस भवन में जोरदार हंगामा हुआ है. सत्यनारायण शर्मा को टिकट नहीं दिए जाने से नाराज एक कांग्रेस नेता ने आत्मदाह की धमकी देकर खुद पर पेट्रोल छिड़क लिया. शर्मा के समर्थकों ने प्रदेश अध्यक्ष के कार्यालय में अंडे भी फेंके.

पुलिस ने आत्मदाह का प्रयास करने वाले कांग्रेस नेता को पकड़ लिया, मगर इस घटना से कांग्रेस भवन का माहौल और तनावपूर्ण हो गया. कांग्रेस नेता सत्यनारायण शर्मा के समर्थकों ने प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल कि खिलाफ नारेबाजी की और कांग्रेस भवन में रखी सारी कुर्सियां तोड़ डालीं तथा बघेल के कक्ष में अंडे फेंक दिए.

दरअसल, रायपुर लोकसभा के लिए आलाकमान ने छाया वर्मा को प्रत्याशी घोषित किया था. इसके बाद रायपुर (ग्रामीण) के विधायक सत्यनारायण शर्मा का नाम प्रत्याशी के तौर पर घोषित किया गया. मगर इससे पहले ही छाया वर्मा ने अपना प्रचार शुरू कर दिया था. जब छाया वर्मा का टिकट कटा तब कांग्रेस नेतृत्व पर कुर्मी समाज को नजरअंदाज करने का आरोप लगने लगा. इसी मसले को लेकर प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल तथा नेता प्रतिपक्ष टी.एस. सिंहदेव को दिल्ली बुलाया गया था.

आलाकमान ने शनिवार की रात सत्यनारायण शर्मा की जगह फिर से छाया वर्मा को प्रत्याशी बना दिया. इस बात को लेकर रविवार को सुबह से ही कांग्रेस भवन का माहौल गरमाया हुआ है. कांग्रेस भवन में सत्यनारायण शर्मा समर्थक नारेबाजी करते रहे. उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष बघेल के खिलाफ जातिवाद की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए नारेबाजी की. इसी दौरान आरंग ब्लॉक कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष शरद गुप्ता ने सत्यनारायण शर्मा का टिकट कटने से नाराज होकर आत्मदाह की धमकी दे डाली और खुद पर पेट्रोल छिड़क लिया.

कोतवाली पुलिस ने शरद गुप्ता को हिरासत में ले लिया. इसके बाद भी कांग्रेस भवन में शर्मा समर्थकों का हंगामा काफी देर तक चलता रहा. उन्होंने तोड़फोड़ शुरू कर दी.

इस बीच भूपेश बघेल ने कहा कि छाया वर्मा को फिर से प्रत्याशी इसलिए बनाया गया, क्योंकि सत्यनारायण ने चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया था. उन्होंने कहा कि जब शर्मा की मंशा से आलाकमान को अवगत कराया गया तब छाया वर्मा को फिर से प्रत्याशी बना दिया गया.

वहीं, सत्यनारायण शर्मा के पुत्र पंकज शर्मा ने कहा कि उनके पिता ने चुनाव लड़ने से कभी इनकार नहीं किया. उन्होंने कांग्रेस भवन में मीडिया से कहा कि सत्यनारायण शर्मा ने न तो टिकट मांगा था और न ही चुनाव लड़ने से इनकार किया था.

उन्होंने कहा कि छाया वर्मा उनकी बहन जैसी हैं और कांग्रेस कार्यकर्ता आलाकमान के निर्णय को मानते हुए वह उनका समर्थन करते हैं.

कांग्रेस भवन में हंगामा और आत्मदाह की धमकी देने वाले कार्यकर्ता के संबंध में उन्होंने कहा कि शरद गुप्ता कांग्रेस कार्यकर्ता नहीं है. अगर कोई कार्यकर्ता पार्टी आलाकमान के फैसले का विरोध करता है तो उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जानी चाहिए.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *