राजधानी में खुलेगा सिकलसेल अस्पताल

रायपुर | संवाददाता: सिकलसेल से पीड़ित लोगों के लिये जल्दी ही सौ बिस्तरों वाला अस्पताल बनाया जायेगा. मुख्यमंत्री रमन सिंह की अध्यक्षता में हुई मंत्रिपरिषद की बैठक में यह निर्णय लिया गया.

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री अमर अग्रवाल ने इस फैसले की जानकारी देते हुये बताया कि छत्तीसगढ़ में सिकल सेल एनीमिया की चुनौती को देखते हुए इस बीमारी के मरीजों की सहायता और बीमारी से संबंधित अनुसंधान कार्यो के लिए स्व-शासी सिकल सेल संस्थान शुरू करने के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया है. संस्थान का कार्यालय राजधानी रायपुर स्थित पंडित जवाहर लाल नेहरू ऐलोपैथिक मेडिकल कॉलेज के बायो-केमेस्ट्री विभाग में होगा.

संस्थान के सुचारू संचालन के लिए स्वास्थ्य मंत्री की अध्यक्षता में समिति का भी गठन किया जाएगा. इसमें राज्य शासन के अपर मुख्य सचिव, वित्त विभाग के प्रमुख सचिव अथवा सचिव और स्वास्थ्य विभाग के सचिव सहित शासन की ओर से आठ स्थायी पदेन सदस्य होंगे. शासन द्वारा सिकल सेल के क्षेत्र में काम करने वाले तीन प्रतिष्ठित नागरिकों और दो जनप्रतिनिधियों का मनोनयन दो वर्ष के लिए किया जाएगा.

इसके अलावा संस्थान की ओर से एक सौ बिस्तरों के अस्पताल भी खोला जाएगा, जिसमें गहन रोग उपचार कक्ष, शल्य क्रिया कक्ष सहित सभी जरूरी सुविधाएं होंगी. संस्थान का संचालन राज्य शासन के वित्तीय सहयोग से किया जाएगा. इसके संचालन के लिए आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन ऑफ सोसायटी के गठन का भी अनुमोदन किया गया. संस्थान द्वारा सिकल सेल एनीमिया से पीड़ितों को परामर्श सेवाएं भी दी जाएंगी.

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राज्य विधानसभा में वित्तीय वर्ष 2013-14 के बजट भाषण में प्रदेश में सिकल सेल संस्थान के गठन की घोषणा की थी. संस्थान के लिए बजट प्रावधान भी किया जा चुका है. इस संस्थान में चिकित्सकों के प्रशिक्षण की भी व्यवस्था रहेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *