रैनबेक्सी बेचेगा वालसरटेन

मुंबई | संवाददाता: अमरीका में दिग्गज भारतीय दवा कंपनी रैनबेक्सी को वालसरटेन बेचने की अनुमति मिल गई है. रैनबेक्सी को अमरीकी फुड एंड ड्रग एडमिनिसट्रेशन ने 180 दिनों के लिये डायोवैन के जेनेरिक संस्करण वालसरटेन बेचने की अनुमति उसके एक अमरीकी सहायक कंपनी के हवाले से मिली है. इस बात की घोषणा रैनबेक्सी की सहायक कंपनी ओहम लेबोरेटरीज ने शुक्रवार को की है.

ओहम लेबेरेटरीज के उपाध्यक्ष बिल विंटर ने बताया कि उनकी कंपनी को वालसरटेन की 80,120,160 और 320 मिलीग्राम की दवा बेचने का विशिष्ट अधिकार अमरीकी एफडीए ने दिया है. वालसरटेन वर्तमान में अमरीका में डायोवैन के ब्रांड नाम से नोवार्टिस द्वारा बेचा जाता है. डायोवैन की बाजार में हिस्सेदारी 2.19 बिलियन अमरीकी डॉलर की है.

उल्लेखनीय है कि रैनबेक्सी की सहायक कंपनी इसे अमरीका में 40-50 फीसदी कम मूल्य पर उपलब्ध करवाने जा रही है. इससे कंपनी को 6 माह में 20 करोड़ डॉलर की आय होगी दसरी तरफ इससे नोवार्टिस की बिक्री कम हो जायेगी. कुल मिलाकर फायदा अमरीकी मरीजों का होने जा रहै है.

गौरतलब है कि इस दवा का अमरीकी चिकित्सक धड़ल्ले से उपयोग करते हैं. रैनबेक्सी की सहायक कंपनी ने अमरीका में वालसरटेन की अनुमति के लिये सितंबर 2012 में एफडीए के पास आवेदन किया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *