टुकड़ों में मिला लापता छोटू

रतनपुर | उस्मान कुरैशी: रतनपुर से संदिग्ध परिस्थितियों में लापता बच्चे छोटू की सिर कटी लाश टुकड़ों में मिली है. लखनी देवी पहाड़ी के जंगल में बिखरी लाश के टुकड़ों को परिजन सर्चिंग दल के साथ दिन भर ढ़ूढ ढ़ूढ कर दिन भर समेटते रहे.

पुलिस अधीक्षक सहित पुलिस के आला अधिकारियों ने भी घटना स्थल का मुआयना किया. पुलिस मामले में मर्ग कायम कर विवेचना में जुट गई है. टुकड़ों में मिली लाश से उपजे बहुत से सवालों के जवाब अभी पुलिस को तलाशनें है.

रतनपुर नगर पंचायत क्षेत्र के खंडोबा मंदिर क्षेत्र निवासी लतेलराम रात्रे का दस वर्शीय पुत्र हरिशंकर उर्फ छोटू 28 दिसम्बर दोपहर को संदिग्ध रूप से लापता था. रविवार की सुबह बच्चे की मां गुलाबा बाई ने घटना की रिपोर्ट रतनपुर थाने में दर्ज कराई थी. परिजनों की आशंका पर थाने में अपहरण का अपराध दर्ज किया गया था.

रविवार की शाम परिजनों की निशानदेही पर कुकदा सीपत निवासी दो संदेही युवकों की पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया था. सोमवार की सुबह पुलिस की टीम सर्चिंग के लिए लखनी देवी पहाड़ी के जंगल पहुंची. काफी खोजबीन के बाद पहाड़ी के उपर बन रहे बजरंगबली की मूर्ति के पीछे जंगल में बच्चे की खून से सनी पेंट मिली. लापता बच्चे का ही पेंट होने की पुश्टि परिजनों ने की .

आगे सर्चिंग में थोड़ी दूरी पर बच्चे का कटा सिर भी मिल गया. कटी सिर के नजदीक ही बच्चे की चप्पलें चिलम और एक बकरे की लाश भी मिली है. इसके बाद तो जंगल में बिखरे शरीर के मांस विहीन हिस्से मिलते चले गए. पुलिस ने बच्चे की सिर की बरामदगी के बाद शरीर के हिस्से तलाशने डाग की भी मदद ली. मौके पर साइबर सेल के साथ फोरेंसिक एक्सपर्ट भी पहुंचे. पुलिस अधीक्षक बद्री नारायण मीणा ने भी घटना स्थल का मुआयना किया.

टुकड़ों में लापता बच्चे की लाश मिलनें की दर्दनाक घटना की खबर से क्षेत्र में सनसनी फैल गई. इस घटना ने ठीक तीन साल पहले जनवरी 2011 में तीन बच्चों के निर्मम हत्या की यादें हरी कर दी. इस घटना के कुछ अनसुलझे सवाल भी है जिनके जवाब तलाशने की जरूरत पुलिस जांच टीम को है.

सूत्रों की माने तो पुलिस इसे वहसी जानवर के षिकार के रूप में भी देख रही है. अगर ऐसा है तो मृतक के शरीर के हिस्से अलग अलग होकर विस्तृत क्षेत्र में कैसे फैल गए. मृत बच्चे का पेंट भी जंगल में लाश के टुकड़ों से अलग बरामद हुए है जिनमें खून के मामूली दाग ही है. बच्चे के कटे सिर के पास बकरे का बिना सिर का लाश मिलना. मृत बच्चों के परिजनों द्वारा कथित युवक के खिलाफ लगाए गए आरोपों की भी गंभीरता से जांच जरूरी है.

मृत बच्चे की बहन व उसकी सहेली से पूछताछ व मोबाइलों के काल डिटेल्स भी मामले की जांच में सहायक हो सकते है. मामला हत्या का है या कुछ और ये जांच का विषय है. फिलहाल तो मौत के कारणों के खुलासे के लिए जांच अधिकारियों को पोस्ट मार्टम की रिपोर्ट का इंतजार है.

टुकड़ों में लाश मिलने की घटना पर श्री मीणा ने कहा कि सिर मिला है. जानवरों ने भी खा लिया है. बकरे की भी लाश मिली है. अभी मामले की जांच की जा रही है. पीएम रिपोर्ट के बाद ही मौत के कारणों का खुलसा हो सकेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *