बजट पर राजनीतिक दलों की प्रतिक्रिया

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: राजनीतिक दलों ने अपने वैचारिक प्रतिबद्धताओं के अनुरूप आम बजट पर प्रतिक्रिया दी है. भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार को पेश आम बजट को ‘गरीबों और किसानों’ के लिए हितकर करार दिया. शाह ने संसद में बजट पेश किए जाने के बाद संवाददाताओं से कहा, “मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली को धन्यवाद और बधाई देना चाहता हूं. आम बजट में किसानों, गरीबों और ग्रामीण भारत को केंद्र में रखा गया है.”

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि आम बजट में न तो कोई दृष्टिकोण है और न प्रतिबद्धता. गांधी ने कई सारे ट्वीट किए, जिसमें उन्होंने कहा है, “बजट 2016 में दृष्टिकोण और प्रतिबद्धता दोनों नहीं है. पिछले दो बजटों में किए गए लंबे वादों की विफलता का कोई जिक्र किए बगैर नए वादों की एक सूची पेश की गई है.”

राहुल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी सरकार के दो वर्ष किसानों, महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना, ग्रामीण विकास और सामाजिक खर्च पर कांग्रेस के फोकस का मजाक उड़ाने में बिता दिया, और अब इस बजट को किसान हितैषी बता रही है, जो हास्यास्पद है.

वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आम बजट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि इसमें आत्महत्या कर रहे किसानों के लिए कुछ नहीं है. केजरीवाल ने एक ट्वीट में कहा, “आत्महत्या कर रहे किसानों के लिए बजट में कुछ भी नहीं है. किसान कर्ज में डूबे हैं. सम्पन्न उद्यमियों का ऋण माफ कर दिया गया है, लेकिन किसानों का नहीं.”

आम आदमी पार्टी नेता ने कहा कि केवल जेनेरिक दवाओं की दुकानें खोलने से कुछ नहीं होगा. हर गांव में मुफ्त इलाज के लिए दवाखाने खोले जाने चाहिए.

राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने निराशाजनक बताया है. उन्होंने कहा कि इस बजट से लोगों को काफी उम्मीदें थीं, लेकिन लोगों को कुछ नहीं मिला. लालू ने कहा, “वित्तमंत्री ने 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करने की बात की है. उनका कार्यकाल 2019 तक का ही है. ऐसे में वह किसानों को भ्रमित कर रहे हैं.”

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि एक तरफ जहां किसानों और खेती के लिए विशेष प्रावधान दिए गए हैं, वहीं गरीबों का भी ध्यान रखा गया है. मनरेगा की धनराशि बढ़ाई गई है, जिससे गरीबों को रोजगार मिलेगा और गरीब परिवारों को रसोई गैस मिलेगी. स्वास्थ्य बीमा कराया जाएगा. मध्यम उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के लिए स्टैंडअप योजना को अमल में लाया गया है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश के नौजवान कौशल विकास के साथ अच्छा रोजगार हासिल कर सकें, इसके लिए कौशल विकास पर विशेष जोर दिया गया है. कुल मिलाकर यह बजट सभी वगरें के लिए कल्याणकारी है.

उमर अब्दुल्ला ने सोमवार को केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा लोकसभा में पेश आम बजट को विपक्ष के प्रतिकूल करार दिया. उन्होंने आम बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह देश के अमीरों पर बहुत अधिक केंद्रित नहीं है, जिसके कारण विपक्ष का काम ‘थोड़ा मुश्किल’ हो गया है.

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार को कहा कि वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा पेश किया गया बजट ‘ऐतिहासिक’ है. बजट पेश किए जाने के बाद संवाददाताओं से मुखातिब गडकरी ने कहा, “इतिहास में पहली बार सड़कों के विकास के लिए एक लाख करोड़ रुपये से भी अधिक राशि आवंटित की गई है. यह ऐतिहासिक क्षण है.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *