रजनीकांत का फिल्मी सफरनामा

नई दिल्ली | मनोरंजन डेस्क: तमिल, बालीवुड तथा हालीवुड की फिल्मों में काम कर चुके रजनीकांत अपनी फिल्मी किरदार के विपरीत शुरु से लेकर अत्यंत विनम्र स्वभाव के हैं. रजनीकांत के सफरनामे में कुली से लेकर सुपरस्टार बनने तक की कहानी है. रजनीकांत ऐसे अकेले कलाकार हैं जिनके हाव-भाव के दीवाने तमिल, बालीवुड तथा हालीवुड तक में हैं. उनके चलने की खास शैली और संवाद अदायगी के अनोखे अंदाज से लोकप्रियता पाने वाले सुपरस्टार रजनीकांत का नाम सुनते ही दिमाग में बस एक शब्द आता है-‘अजेय’. उनके करियर पर नजर डालें, तो इस पर कोई शक-सुबहा नहीं रह जाता. अभिनय के इस महारथी को उनके प्रशंसक भगवान के रूप में पूजते हैं.

रजनीकांत का जन्म 12 दिसंबर, 1950 को बेंगलुरू में हुआ. उनके बचपन का नाम शिवाजी राव गायकवाड़ है. उनके पिता रामोजी राव गायकवाड़ एक हवलदार थे. मां जीजाबाई की मौत के बाद चार भाई-बहनों में सबसे छोटे रजनीकांत को अहसास हुआ कि घर की माली हालत ठीक नहीं है. बाद में उन्होंने परिवार को सहारा देने के लिए कुली का भी काम किया.

यह अपने आप में प्रेरणादायी है कि कैसे एक बढ़ई और बेंगलुरू परिवहन सेवा का एक मामूली बस कंडक्टर भारतीय सिनेमा में सबसे ज्यादा मेहनताना पाने वाला सुपरस्टार बन गया. लेकिन इसके लिए रजनीकांत ने कड़ी मेहनत भी की. अभिनय में दिलचस्पी के चलते उन्होंने 1973 में मद्रास फिल्म संस्थान में दाखिला लिया और अभिनय में डिप्लोमा लिया.

वह उन चुनिंदा अभिनेताओं में से एक हैं, जिनमें शुरुआत से लेकर शोहरत की बुलंदियां छूने तक विनम्रता दिखती है.

रजनीकांत की मुलाकात एक नाटक के मंचन के दौरान फिल्म निर्देशक के. बालाचंदर से हुई थी, जिन्होंने उनके समक्ष उनकी तमिल फिल्म में अभिनय करने का प्रस्ताव रखा. इस तरह उनके करियर की शुरुआत बालाचंदर निर्देशित तमिल फिल्म ‘अपूर्वा रागंगाल’ से हुई, जिसमें वह खलनायक बने. यह भूमिका यूं तो छोटी थी, लेकिन इसने उन्हें आगे और भूमिकाएं दिलाने में मदद की. इस फिल्म को राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजा गया था.

करियर की शुरुआत में तमिल फिल्मों में खलनायक की भूमिकाएं निभाने के बाद वह धीरे-धीरे एक स्थापित अभिनेता की तरह उभरे. तेलुगू फिल्म ‘छिलाकाम्मा चेप्पिनडी’ में उन्हें मुख्य अभिनेता की भूमिका मिली. उसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. कुछ वर्षो में ही रजनीकांत तमिल सिनेमा के महान सितारे बन गए और तब से सिनेमा जगत में एक प्रतिमान बने हुए हैं.

मितभाषी रजनीकांत ने अन्य देशों की फिल्मों में भी काम किया है, जिनमें अमरीका की फिल्में भी शामिल हैं. वह उन गिने-चुने सितारों में से हैं, जो मानते हैं कि उनका काम खुद-ब-खुद उनके बारे में बोलेगा.

बॉलीवुड में उन्होंने ‘मेरी अदालत’, ‘जान जॉनी जनार्दन’, ‘भगवान दादा’, ‘दोस्ती दुश्मनी’, ‘इंसाफ कौन करेगा’, ‘असली नकली’, ‘हम’, ‘खून का कर्ज’, ‘क्रांतिकारी’, ‘अंधा कानून’, ‘चालबाज’, ‘इंसानियत का देवता’ जैसी हिंदी फिल्मों से एक खास मुकाम बनाया है.

वर्ष 2014 में रजनीकांत छह तमिलनाडु स्टेट फिल्म अवार्ड्स से नवाजे गए, जिनमें से चार सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और दो स्पेशल अवार्ड्स फॉर बेस्ट एक्टर के लिए मिले. वर्ष 2000 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया. इसके अलावा, वर्ष 2014 में 45वें इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया में रजनीकांत को सेंटेनरी अवार्ड फॉर इंडियन फिल्म पर्सनेल्टी ऑफ द ईयर से सम्मानित किया गया.

रजनीकांत की अगली बहुप्रतीक्षित फिल्म ‘लिंगा’ है. जिसमें वे दो किरदार निभा रहे हैं. यह 12 दिसंबर यानी उनके जन्मदिन पर ही रिलीज हो रही है. रजनीकांत को उनके जन्मदिन पर बधाई देने वालों में बिग ‘बी’ अमिताभ बच्चन से लेकर देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी शामिल हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *