मुझे फंसाया गया: ‘दबंग खान’

जोधपुर | मनोरंजन डेस्क: बॉलीवुड अभिनेता के ‘दबंग खान’ सलमान ने अदालत में बयान दिया है कि उन्हें आर्मस एक्ट में फंसाया गया है. सलमान ने कहा मैं निर्दोष हूं. अदालत में जाति के बारें में पूछे जाने पर सलमान ने कहा मैं भारतीय हूं. सलमान खान ने गुरुवार को जोर देकर कहा कि उन पर अवैध हथियार रखने और यहां 1998 में दो काले हिरणों का शिकार करने का गलत आरोप लगाया गया है. सलमान ने मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी दलपत सिंह राजपुरोहित से कहा, “मैं निर्दोष हूं. मुझे झूठा फंसाया गया है.”

सलमान पर अवैध हथियारों का इस्तेमाल करके वन्य जीव संरक्षण अधिनियम के तहत संरक्षित पशुओं का शिकार करने और लाइसेंस समाप्त होने के बाद भी हथियार रखने का आरोप लगाया गया है. उन पर शस्त्र अधिनियम का उल्लंघन करने का मामला दर्ज किया गया है.

सलमान इस मामले में जोधपुर अदालत में तीसरी बार गुरुवार को पेश हुए थे.

उनके वकील हस्तिमल सारस्वत ने कहा, “अदालत ने मामले की अगली सुनवाई के लिए चार अप्रैल की तारीख तय की है.”

सुनवाई के दौरान सलमान से उनकी जाति पूछे जाने पर वह कुछ देर खामोश रहे. उसके बाद उन्होंने कहा कि वह एक भारतीय हैं.

सलमान की बहन अलवीरा भी अदालत में मौजूद थीं.

उल्लेखनीय है कि सलमान और कुछ अन्य बॉलीवुड कलाकारों पर 1-2 अक्टूबर, 1998 की रात काले हिरणों के शिकार का आरोप लगाया गया था. उस समय वे सभी यहां फिल्म ‘हम साथ साथ हैं’ की शूटिंग के सिलसिले में मौजूद थे.

जोधपुर के निकट कंकणी गांव के बाहरी इलाके में दो संरक्षित काले हिरणों का शिकार किया गया था.

अदालत ने सलमान से अभियोजन पक्ष के गवाहों द्वारा लगाए गए आरोपों से संबंधित कई सवाल पूछे. सलमान ने सभी आरोपों से इंकार किया है.

उन्होंने कहा कि वह न तो तत्कालीन वन अधिकारी शिवचरण बोहरा के साथ थे और न ही उन्होंने किसी दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए थे.

सलमान के मुंबई स्थित घर से कथित तौर पर उनके लिए हथियार लेकर आने वाले उदय राघवन के बयान के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि हालांकि राघवन को हथियार लाने की अनुमति देने वाले पत्र पर उनके ही हस्ताक्षर हैं, लेकिन उनसे जबर्दस्ती हस्ताक्षर कराए गए थे.

न्यायाधीश राजपुरोहित ने सलमान को तीन मार्च को आदेश दिया था कि वह बयान दर्ज कराने के लिए गुरुवार को अदालत में पेश हों.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *