सेक्स की उम्र 18 पर सरकार सहमत

नई दिल्ली | संवाददाता: सहमति से सेक्स की उम्र 18 साल ही रहेगी. सर्वदलीय बैठक में सरकार ने यह फैसला लिया. सोमवार को सर्वदलीय बैठक में दो दौर की बातचीत में इस मुद्दे पर जम कर बहसबाजी हुई और अंततः सरकार इस बात पर सहमत हो गई कि सहमति से सेक्स की उम्र 16 करने के बजाये उसे 18 साल ही रखा जाये. बाद में मंत्रिमंडल ने भी इसे मंजूरी दे दी.

सर्वदलीय बैठक के बाद संसदीय कार्य मंत्री कमलनाथ ने कहा कि बिल के कुछ प्रावधानों के दुरुपयोग संबंधी चिंताओं को छोड़ कर व्यापक रूप से विधेयक की विषय-वस्तु और मंशा पर आम सहमति है. दूसरी ओर महिला एवं बाल विकास मंत्री कृष्णा तीरथ ने कहा कि सरकार ने सहमति से सेक्स की उम्र 18 साल रखने की मांग मान ली है. उन्होंने कहा कि सर्वदलीय बैठक में विपक्षी दल इसके पक्ष में थे. बिल संशोधनों के साथ मंगलवार यानी 19 मार्च को लोकसभा मं 12 बजे पेश किया जाएगा.

गौरतलब है कि इससे पहले सरकार ने प्रस्तावित यौन प्रताड़ना संबंधी विधेयक में सहमति से सेक्स की उम्र 18 से घटाकर 16 साल करने का फैसला किया था, लेकिन इस पर कई राजनीतिक पार्टियों ने ऐतराज जताया और सर्वदलीय बैठक भाजपा और समाजवादी पार्टी ने कहा कि चूंकि विवाह की उम्र 18 साल है इसलिए संबंध बनाने की सहमति की उम्र भी इतनी ही रहनी चाहिए. सत्ताधारी दलों का कहना था कि विवाह से पहले सेक्स एक सच्चाई है और सहमति की उम्र 16 साल होनी चाहिए. इसके अलावा बैठक में किसी स्त्री को घूर कर देखने पर भी गैरजमानती धारा लगाये जाने को लेकर जोरदार बहस हुई और सरकार को अपने इस फैसले को भी वापस लेना पड़ा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *