शाहरुख चाहते हैं अपनी फिल्मों का रीमेक

मुंबई: फिल्म अभिनेता शाहरुख खान चाहते हैं कि दूसरे लोग उनकी फिल्मों के रीमेक बनाये. उनका कहना है कि अगर ऐसा होता है तो यह उनके लिये सबसे बड़ी उपलब्धि होगी.

शाहरुख खान लगता है, अब चुक रहे हैं. लेखकों के बारे में कहा जाता है कि जब लेखक के पास कुछ नहीं होता तो वह आत्मकथा लिखने लग जाता है. खास तौर पर 50 के आसपास का लेखक ऐसा करे तो इस तरीके से सोचना गलत भी नहीं है. इसी तर्ज पर जब कोई फिल्म स्टार अतीत में जाने लग जाये और अपने महिमामंडन की सोचने लगे तो उसे भी चुका हुआ मान लेना चाहिये. शाहरुख खुद अब तक देवदास और डान जैसी रीमेक में काम कर चुके हैं. लेकिन अब उन्हें लगने लगा है कि उन्होंने महान फिल्मों में काम किया है और उनकी रीमेक बने.

शाहरुख खान ने कहा कि एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि कई निर्देशक मेरे लिए फिल्म लेकर आते हैं. मुझे जो प्रस्ताव मिलते हैं, मैं उसमें से ही चुनता हूं. मैं जब फरहान अख्तर से मिला तो उन्हें लगा कि मैं आज के समय का ‘डॉन’ बन सकता हूं और संजय लीला भंसाली को लगा कि मेरी आंखों में गहराई है, इसलिये मैंने देवदास या डॉन फिल्म में काम किया. शाहरुख यहीं नहीं रुके और कहा कि मैं चाहता हूं कि अन्य लोग मेरी फिल्मों की रीमेक बनाएं, मुझे लगता है कि यह बड़ी उपलब्धि होगी. जाहिर है, अभी तो कम से कम शाहरुख के इस बयान को कोई गंभीरता से नहीं ले रहा है और इसके कई निहितार्थ सामने आ रहे हैं. एक निहितार्थ तो हमने आपको बता ही दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *