माओवादियों से बदला लेंगे- शिंदे

आलोक प्रकाश पुतुल | बीबीसी : केंद्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा है कि माओवादियों से बदला लिया जायेगा. उन्होंने मंगलवार को हुये माओवादी हमले की एनआईए से भी जांच कराने की घोषणा की.

बस्तर में माओवादी हमले के बाद छत्तीसगढ़ प्रवास पर पहुंचे गृहमंत्री ने माओवादियों के खिलाफ हवाई हमले की बात से इंकार नहीं किया और कहा कि रणनीतियों को उजागर नहीं किया जा सकता.

गौरतलब है कि मंगलवार को माओवादियों ने बस्तर के झीरमघाटी में हमला कर के सुरक्षा बल के 15 जवानों समेत 16 लोगों की हत्या कर दी थी. पुलिस के 40 जवान सड़क निर्माण में लगे लोगों की सुरक्षा के लिए निकले थे, उसी समय माओवादियों ने उन पर हमला किया था. इस हमले में घायल तीन जवानों को राजधानी रायपुर के निजी अस्पतालों में भर्ती कराया गया है.

बुधवार की सुबह रायपुर से जगदलपुर पहुंचे सुशील कुमार शिंदे से सबसे पहले माओवादी हमले में मारे गये जवानों को श्रद्धांजलि दी. उसके बाद उन्होंने राज्य के राज्यपाल शेखर दत्त, मुख्यमंत्री रमन सिंह, राज्य के गृहमंत्री रामसेवक पैंकरा समेत आला अधिकारियों के साथ बैठक की.

सुशील कुमार शिंदे ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि माओवादी हताश हैं, इस कारण इस तरह की कार्रवाई कर रहे हैं. उन्होंने कहा- “हम अपने जवानों की शहादत का बदला लेंगे.”

शिंदे ने बस्तर में बैठक के बाद कहा कि नक्सल हिंसा का मुकाबला करने के लिए राज्य पुलिस और केन्द्रीय सुरक्षा बल परस्पर समन्वय से बहादुरी के साथ काम कर रहे हैं. इसके फलस्वरूप नक्सली बौखला गए हैं और बौखलाहट में इस प्रकार की घिनौनी और कायरतापूर्ण हिंसा कर रहे हैं.

नक्सल समस्या को समाप्त करने के लिए केन्द्र की ओर से उन्होंने मुख्यमंत्री को हर संभव सहयोग जारी रखने का आश्वासन दिया.

रायपुर में भी पत्रकारों से बातचीत में शिंदे ने दुहराया कि नक्सलियों की सक्रियता की खबर खुफिया विभाग को थी. लेकिन सही-सही स्थान की जानकारी नहीं होने के कारण यह दुखद घटना घटी है. शिंदे ने कहा- “जिस तरह से यह हमला हो गया है, उसका बदला ज़रुर लिया जाएगा. हमारे सभी जवान, चाहे स्टेट के हों या सेंट्रल के हों, वे ज़रुर इसका बदला लेंगे.”

पत्रकारों द्वारा यह कहे जाने पर कि गृहमंत्री बार-बार ऐसी बातें कहते हैं, शिंदे ने कहा- “हम पहली बार यह बात कह रहे हैं.”

क्या माओवादियों के खिलाफ हवाई हमला किया जाएगा, इस सवाल के जवाब में शिंदे ने कहा कि-“ देखना पड़ेगा. ये सब कुछ बातें हम बोल नहीं सकते. स्टैटजी इसकी करनी पड़ती है. इंफार्मेशन जाना ठीक नहीं होता है.”

उन्होंने केंद्र और राज्य के बीच तालमेल के अभाव को लेकर कहा कि इस बारे में बात हुई है और हमारी कोशिश है कि यह तालमेल स्थापित हो.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *