तेन्दूपत्ता संग्राहकों को बोनस वितरण शुरु

रायपुर: छत्तीसगढ़ के तेन्दूपत्ता संग्राहकों को वर्ष 2012 के तेंदुपत्ता संग्रहण के लिये 311 करोड़ 70 लाख 87 हजार रूपए का बोनस दिये जाने की घोषणा पर अमल शुरु हो गया है. राज्य में लगभग 13 लाख 77 हजार परिवार तेन्दूपत्ता संग्रहण में मौसमी रोजगार प्राप्त करते हैं. सरकार की विकास यात्रा के साथ तेन्दूपत्ता संग्राहकों को बोनस देने का भी काम शुरु हो गया है.

गौरतलब है कि दस साल पहले वर्ष 2003 में छत्तीसगढ़ में तेन्दूपत्ता संग्राहकों के लिए पारिश्रमिक की दर 450 रूपए प्रति मानक बोरा थी. 2011 में इसे बढ़ाकर 800 रूपए, वर्ष 2012 में 1100 रूपए और इस वर्ष 2013 में 1200 रूपए कर दिया है.
सरकार का दावा है कि 2012 में राज्य में 16 लाख 39 हजार मानक बोरा पत्तों की आवक के अनुमानित लक्ष्य के विरूद्ध लगभग 17 लाख मानक बोरा पत्तों का संग्रहण किया गया था. वर्ष 2011 के संग्रहण कार्य के लिए राज्य के तेन्दूपत्ता संग्राहकों को लगभग 154 करोड़ 85 लाख रूपए का प्रोत्साहन पारिश्रमिक दिया जा चुका है.


आंकड़े बताते हैं कि वर्ष 2012 के प्रोत्साहन पारिश्रमिक के रूप में बीजापुर वन मण्डल में 12 करोड़ 65 लाख 62 हजार रूपए, सुकमा वन मण्डल में 12 करोड़ 38 लाख 51 हजार 746 रूपए, दन्तेवाड़ा वन मण्डल में चार करोड़ 25 लाख 45 हजार 478 रूपए, जगदलपुर वन मण्डल में दो करोड़ 88 लाख 14 हजार 483 रूपए, दक्षिण कोण्डागांव वन मण्डल में तीन करोड़ 11 लाख रूपए, उत्तर कोण्डागांव वन मण्डल में चार करोड़ 13 लाख 34 हजार रूपए और नारायणपुर वन मण्डल में तीन करोड़ 50 लाख 55 हजार रूपए का वितरण किया जा रहा है.

पूर्वी भानुप्रतापपुर वन मण्डल में 22 करोड़ 90 लाख 78 हजार रूपए, पश्चिम भानुप्रतापपुर वन मण्डल में 12 करोड़ 87 लाख 76 हजार रूपए, कांकेर वन मण्डल में आठ करोड़ 36 लाख 42 हजार रूपए, राजनांदगांव वन मण्डल में 14 करोड़ 95 लाख 48 हजार रूपए, खैरागढ़ वन मण्डल में छह करोड़ 88 लाख रूपए, दुर्ग वन मण्डल में चार करोड़ 95 लाख रूपए, कवर्धा वन मण्डल में सात करोड़ 11 लाख 68 हजार रूपए, धमतरी वन मण्डल में छह करोड़ 11 लाख 35 हजार रूपए और उदन्ती वन मण्डल में चार करोड़ 80 लाख 23 हजार रूपए के प्रोत्साहन पारिश्रमिक का वितरण किया जाएगा.

पूर्वी रायपुर वन मण्डल में 15 करोड़ 80 लाख रूपए, महासमुन्द वन मण्डल में 19 करोड़ 22 लाख 62 हजार रूपए, रायपुर वन मण्डल में पांच करोड़ 37 लाख 13 हजार रूपए, बिलासपुर वन मण्डल में चार करोड़ 23 लाख 38 हजार रूपए, मरवाही वन मण्डल में छह करोड़ 63 लाख 32 हजार रूपए, जांजगीर-चांपा वन मण्डल में लगभग 86 लाख रूपए, रायगढ़ वन मण्डल में 11 करोड़ 97 लाख 66 हजार रूपए, धरमजयगढ़ वन मण्डल में 19 करोड़ 12 लाख 45 हजार रूपए, कोरबा वन मण्डल में 12 करोड़ 99 लाख 86 हजार रूपए, कटघोरा वन मण्डल में 18 करोड़ 93 लाख रूपए 49 हजार रूपए, जशपुर वन मण्डल में छह करोड़ 38 लाख 17 हजार रूपए और मनेन्द्रगढ़ वन मण्डल में आठ करोड़ 12 लाख 35 हजार रूपए की धन राशि तेन्दूपत्ता संग्राहकों को बोनस के रूप में दी जाएगी. कोरिया वन मण्डल में सात करोड़ 56 लाख 47 हजार रूपए, दक्षिण सरगुजा वन मण्डल में 12 करोड़ 80 लाख 15 हजार रूपए, उत्तर सरगुजा वन मण्डल में 19 करोड़ 60 लाख 84 हजार रूपए और पूर्वी सरगुजा वन मण्डल में दस करोड़ 14 लाख 30 हजार रूपए का बोनस तेन्दूपत्ता संग्राहकों को मिलेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!