बेकाम है रेलवे का शिकायती नंबर 1800111321

बिलासपुर। संवाददाता: रेलवे स्टेशन या फिर चलती ट्रेनों में खराब नाश्ता-खाना मिले, ज्यादा कीमत ली जाए तो इसकी शिकायत टोल फ्री नंबर 1800111321 पर करिए.भारतीय रेल बीते डेढ़ साल से इसी टोल फ्री नंबर के प्रचार-प्रसार में जुटा है.

दावा किया गया है कि यात्रियों को राहत मिल रही है. लेकिन लगता है कि यह टोल फ्री नंबर 1800111321 महज खानापूर्ति के लिये है.


पूरे देश के लिए टोल फ्री नंबर 1800111321 की एक ही फोन लाइन है. लिहाजा रेलवे रिप्रेजेंटेटिव से घंटे भर में भी बात नहीं होती. 24 घंटे दौड़ने वाली भारतीय रेल का शिकायती नंबर सुबह के 7 बजे से रात के 10 बजे तक ही सेवा देता है.

आम यात्रियों को इसकी जानकारी दी ही नहीं गई. टोल फ्री नंबर हर समय काम करने वाला बताया गया.

यात्रियों की असुविधा को समझने के लिए 19 और 29 दिसंबर की रात 8 से 9 बजे के बीच टोल फ्री नंबर पर बार-बार कॉल किया गया. हर बार एक ही जवाब मिलता- सभी रिप्रेजेंटेटिव व्यस्त हैं, लाइन पे बने रहिए.

कॉल लगने के 30 सेकंड बाद स्टीमेटेड होल्ड टाइम दो मिनट बताया जाता. ये टाइम घटने के बजाय 4 मिनट, 6 मिनट के हिसाब से बढ़ते जाती.

लगातार 15-15 मिनट लाइन पर बने रहे लेकिन रिप्रेजेंटेटिव से बात नहीं हो सकी. अब 22 दिसंबर की सुबह 10:55 बजे कॉल किया गया.

वेटिंग टाइम

रेलवे रिप्रेजेंटेटिव ने नाम तो नहीं बताया लेकिन पूरी हकीकत बयां कर दी. एक ही फोन लाइन के चलते दबाव इतना ज्यादा रहता है कि एक से बात होती है तो कम से कम 20 शिकायतकर्ता कतार में होते हैं.

70 फीसदी शिकायतकर्ता वेटिंग टाइम के चलते कतार से अपने आप बाहर हो जाते हैं. सुबह 7 से 9 बजे तक और शाम 6 बजे से रात के 10 बजे तक दबाव सबसे ज्यादा रहता है.

बताया गया कि 139 सहित रेलवे की अन्य नंबरों पर कॉल चार्ज लगता है. लिहाजा यात्री टोल फ्री नंबर 1800111321 पर ज्यादा संपर्क करते हैं.

खानपान के इतर भी सवाल-जवाब करते हैं. जरूरतमंद यात्री का कॉल हम तक पहुंच ही नहीं पाता. दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे (बिलासपुर) ने 19 दिसंबर को जारी विज्ञप्ति में इसी टोल फ्री नंबर के उपयोग पर जोर दिया है.

सीपीआरओ डॉ. पीसी त्रिपाठी से सवाल किया गया कि जब संपर्क ही नहीं होता तो नंबर के प्रचार-प्रसार से फायदा क्या?

उनका कहना है कि सुविधा रेलवे बोर्ड स्तर की है. असुविधा हो रही है तो जानकारी रेलवे बोर्ड को दी जाएगी. श्री त्रिपाठी ने कहा कि इस मामले में शिकायत का निदान बोर्ड स्तर पर ही होगा.

शिकायत के लिए अंग्रेजी जानिए

खान-पान के लिए जारी टोल फ्री नंबर कंप्यूटराइज्ड है. कॉल लगते ही कंप्यूटर स्टीमेटेड होल्ड टाइम की जानकारी देने लगेगा. यह भी बताएगा कि आप किस नंबर के कॉलर हैं, यानी आपकी बारी कितने यात्रियों की शिकायतों के बाद आएगी.

तमाम वार्ता अंग्रेजी में होती है. हिंदी वर्जन की सुविधा ही नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!