भारत के दो चेहरे, मोदी और महात्मा: सीएनएन

वाशिंगटन | समाचार डेस्क: सीएनएन में प्रकाशित लेख ‘भारत के दो चेहरे’ के माध्यम से सवाल उठाया गया है कि मोदी या महात्मा ? इस लेख के द्वारा अमरीकी अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर आयोग ने सवाल किया है कि अगले लोकसभा के चुनाव में कौन सा चेहरा भारत में जीतेगा ? धार्मिक स्वतंत्रता या धार्मिक असहिष्णुता का.

इस लेख में कहा गया है कि गुजरात के ही महात्मा गांधी ने बहु धार्मिक समाज के लिये व्यापक तथा सहिष्णुता का दृष्टिकोण पेश किया था. वहीं इस लेख में गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी पर सवाल उठाये गयें हैं.

भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद प्रत्याशी नरेंद्र मोदी को ‘भारत में हिंसा के लिए दंडित करने में विफलता का प्रतीक’ करार देते हुए अमरीका के दो अधिकारियों ने इस बात पर हैरत जताई है कि वर्ष 2014 में होने जा रहे आम चुनाव में किसकी छवि असरदार रहेगी.

अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर अमेरिकी आयोग, यूएससीआईआरएफ की उपाध्यक्ष लैंटोस स्वेट और संस्था के आयुक्त मैरी एन्न ग्लेंडन ने सीएनएन में प्रकाशित वैचारिकी में कहा है ‘भारत की दो चेहरे है.’ यूएससीआईआरएफ अमेरिकी कांग्रेस के एक अधिनियम के तहत गठित संस्था है.

विभिन्न धर्मो के विशेष अवसरों पर हर वर्ष दिए जाने वाले अवकाश और उत्सव को भारत की उल्लेखनीय धार्मिक विविधता करार देते हुए दोनों अधिकारियों ने लिखा है, “फिर भी देश भर में बुनियादी तौर पर कई ऐसे क्षेत्र हैं जो दोयम दर्जे के होने का अहसास कराते हैं.”

स्वेट और ग्लेंडन ने लिखा है, “वास्तव में सरकार और कई भारतीय राज्यों के समुदायों ने खास तौर से धार्मिक अल्पसंख्यकों के स्वतंत्र चिंतन और धर्म के प्रति सुविचारित शत्रुता दर्शाई हैं.” दोनों लेखकों ने आगे कहा है, “पिछले दशक के दौरान शत्रुता अक्सर हिंसात्मक होती रही हैं.”

दोनों अधिकारियों ने लिखा है, “लेकिन नरेंद्र मोदी हिंसा के लिए दंड देने में भारतीय विफलता के प्रतीक पुरुष बने हुए हैं. मोदी वर्ष 2002 में हुए गुजरात दंगे के दौरान गुजरात के मुख्यमंत्री थे और आज भी वह इस पद हैं.” दोनों लेखकों ने इस बात का उल्लेख किया है कि यूएससीआईआरएफ की सिफारिश पर वर्ष 2005 में अमेरिकी विदेश विभाग ने मोदी को अमेरिका का वीजा नहीं दिया था.

सीएनएन में प्रकासइत लेख में इस बात पर हैरत दर्शाया है कि इन सब के बावजूद प्रमुख विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी ने गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी को अपना प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *