भर्ती घोटाले में अब उमा भारती का भी नाम

भोपाल | समाचार डेस्क: मध्यप्रदेश के भर्ती घोटाले में अब कथित रुप से उमा भारती का नाम सामने आ रहा है. कांग्रेस पार्टी ने आरोप लगाया है कि उमा भारती ने संविदा शिक्षकों की 15 नियुक्तियों में अपने पद का इस्तेमाल किया है. इधर मुख्यमंत्री इस तरह के मामलों पर पहले भी कह चुके हैं कि कानून अपना काम कर रहा है और उसमें सरकार किसी तरह का हस्तक्षेप नहीं करेगी.

कांग्रेस के प्रवक्ता के के मिश्रा ने आरोप लगाया कि पीएम नरेंद्र मोदी ईमानदारी की बात कर रहे हैं. पर उनके बगल में बैठने वाली मंत्री उमा भारती ने भी 15 लोगों के एडमिशन फर्जी तरीके से कराए हैं.

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि व्यापम घोटाले में अभी तक एसटीएफ द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पूर्व पीएस प्रेम चंद प्रसाद की गिरफ्तारी नहीं की गई है. परिवहन निरीक्षक परीक्षा में 19 उम्मीदवार सीएम की ससुराल महाराष्ट्र के गोंदिया से चुने गए थे. इस मामले का एसटीएफ खुलासा नहीं कर रही है. कांग्रेस नेता ने कहा कि 15 साल तक मुख्यमंत्री के निजी सचिव रहे प्रेमचंद प्रसाद ने भी अपनी बेटी को फर्जी तरीके से पीएमटी पास कराई औऱ निजी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस में दाखिला दिलाया. एसटीएफ ने प्रेमचंद प्रसाद को 25 जून तक पूछताछ के लिए हाज़िर होने को कहा है. प्रसाद अपनी बेटी के साथ अग्रिम जमानत पाने की कोशिश कर रहे हैं.

के के मिश्रा ने आरोप लगाया कि संविदा शिक्षक भर्ती घोटाले में पूर्व तकनीकी शिक्षा मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा भी गिरफ्तार हो चुके हैं और 24 जून तक पुलिस रिमांड पर हैं. आरएसएस नेता सुरेश सोनी के करीबी माने जाने वाले सुधीर शर्मा को अदालत ने 21 जुलाई तक पेश होने के लिए कहा है वरना उनकी संपत्ति कुर्क करने की कार्रवाई होगी. सुधीर पुलिस भर्ती परीक्षा में आरोपी हैं.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *