अमरीका ने कहा सॉरी शाहरुख

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: भारत में अमरीकी राजदूत ने शाहरुख खान को हिरासत में लिये जाने पर खेद प्रकट किया है. भारत में अमरीकी राजदूत रिचर्ड वर्मा ने ट्वीट किया “अफ़सोस है कि शाहरुख़ खान को परेशानी उठानी पड़ी. हम ये सुनिश्चित करने के लिए काम कर रहे हैं कि ऐसा दोबारा न हो. आपका काम लाखों लोगों को प्रेरित करता है, जिनमें अमरीकी लोग भी शामिल हैं.” उल्लेखनीय है कि शाहरुख खान को शुक्रवार को लॉस एंडलिस एयरपोर्ट पर ढाई घंटे तक हिरासत में रखा गया.

दरअसल, इंटरपोल की सूची में भारत के रांची के एक ‘शाहरुख’ का नाम दर्ज है. आतंकी रियाज भटकल ने 21 जनवरी, 2010 को इस नाम से अपना एक पासपोर्ट बनवाया था. यह ‘शाहरुख’ नाम को सुरक्षा की दृष्टि से बनाये गये अमरीकी सूची में शामिल किया गया है. इसलिये जब भी किसी अमरीकी एयरपोर्ट में ‘शाहरुख’ नाम आता है अपने आप अलर्ट जारी हो जाता है.


शाहरुख खान ने अमरीकी राजदूत के ट्वीट का जवाब देते हुये लिखा, “कोई परेशानी नहीं सर, मैं प्रोटोकॉल का सम्मान करता हूं और खुद को इससे ऊपर नहीं समझता. बस असुविधा हुई. शुक्रिया कि आपने इस बारे में ग़ौर किया.”

गौरतलब है कि इससे पहले भी साल 2012 में शाहरुख खान को न्यूयार्क एयरपोर्ट पर दो घंटे हिरासत में रखा गया था.

शुरु से ही अमरीका की यह सूची विवादों से भरी रही है. इसमें छः साल के बच्चे से लेकर मृत व्यक्तियों तक के नाम शामिल हैं. अमरीका की ‘नो फ्लाई’ सूची में 24.84 लाख रिकॉर्ड शामिल हैं.

शाहरुख खान को अमरीकी एयर पोर्ट पर हिरासत में लिये जाने पर जानी मानी लेखिका तसलीमा नसरीन ने कहा बहुत सारे मुसलमान रोज अमरीकी एयरपोर्ट पर हिरासत में लिये जाते हैं. शाहरुख खान भारत में स्टार हैं अमरीका में नहीं. उन्होंने ट्वीट किया, “अगर आप एक बार हिरासत में ले लिए गए तो इसकी संभावना है कि आपको हर बार हिरासत में लिया जाएगा. कंप्यूटर उनकी पहचान हिरासत में लिए गए व्यक्ति के तौर पर करता है.”

तस्लीमा ने एक और ट्वीट किया, “सच्चाई ये है कि ज़्यादातर ग़ैर-मुस्लिम अब मुसलमानों पर यकीन नहीं करते हैं. मुस्लिम आतंकवादी बेगुनाह लोगों को मार रहे हैं. उन्हें डर है कि आप मुसलमान हैं, तो आप एक आतंकवादी हो सकते हैं.”

तस्लीमा आगे लिखती हैं, “मुस्लिम आतंकवादियों की जघन्य वारदातों की वजह से बेगुनाह मुसलमानों को हर जगह परेशानियों का सामना करना पड़ता है.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!