US सुप्रीम कोर्ट जज के दावेदार श्रीनिवासन

वाशिंगटन | समाचार डेस्क: अगर बराक ओबामा की चली तो भारतीय मूल के श्रीनिवासन अमरीकी सर्वोच्य न्यायलय के न्यायमूर्ति के पद पर आसीन हो सकते हैं. अमरीका में सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति एंटोनिन स्कालिया के आकस्मिक निधन के बाद उनकी जगह नए न्यायमूर्ति की नियुक्ति को लेकर मचे राजनैतिक घमासान के बीच इस बात के संकेत मिले हैं कि चंडीगढ़ में पैदा हुए श्रीकांत श्रीनिवासन स्कालिया की जगह नए न्यायमूर्ति हो सकते हैं.

मीडिया में जिन नामों की चर्चा चल रही है, उनमें 48 वर्षीय श्रीकांत श्रीनिवासन भी शामिल हैं. वह अमरीका में सर्वोच्च न्यायालय का न्यायमूर्ति बनने की सीढ़ी माने जाने वाले यूएस कोर्ट ऑफ अपील्स फॉर द डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया सर्किट में न्यायाधीश हैं. मई 2013 में सीनेट ने 97 मतों से उनके नामांकन को मंजूरी दी थी. उनकी नियुक्ति के खिलाफ एक भी मत नहीं पड़ा था.

स्कालिया के निधन के बाद खाली जगह भरने के मामले में राजनैतिक मतभेद सामने आए हैं. राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि वह निश्चित समय में नए न्यायमूर्ति को नियुक्ति के लिए नामित करेंगे. जबकि, सीनेट और प्रतिनिधिसभा, दोनों में बहुमत रखने वाली रिपब्लिकन पार्टी के नेताओं का कहना है कि यह काम देश के नए राष्ट्रपति के लिए छोड़ा जाना चाहिए.

सीएनएन का कहना है कि स्कालिया के उत्तराधिकारियों की कोई भी लिस्ट श्रीनिवासन के नाम से शुरू हो रही है. सीएनएन का कहना है कि ओबामा की कोशिश होगी कि वह एक ऐसा नाम चुनें, जिस पर कांग्रेस में कुछ रिपब्लिकन तो कम से कम सहमत हों.

श्रीनिवासन के पिता तमिलनाडु के तिरुनेलवेली के पास के गांव तिरुवेंकटनाथपुरम से ताल्लुक रखते हैं. उनका परिवार 1960 के दशक के आखिर में कन्सास प्रांत के लॉरेंस में जाकर बस गया था. इनमें उनकी दो बहनें भी शामिल थीं.

श्रीनिवासन के पिता कन्सास विश्वविद्यालय में गणित के प्रोफेसर थे. उनकी मां कन्सास सिटी आर्ट इंस्टीट्यूट में पढ़ाती थीं और बाद में उन्होंने कन्सास विश्वविद्यालय के कंप्यूटर साइंस विभाग में काम किया था.

श्रीनिवासन कन्सास में हाईस्कूल बास्केटबाल स्टार माने जाते थे. उन्होंने 1989 में स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय से स्नातक किया.

वह राष्ट्रपति ओबामा के उप सॉलिसिटर जनरल के रूप में काम कर चुके हैं. वह जॉर्ज बुश के कार्यकाल में सॉलिसिटर जनरल के सहायक के रूप में भी काम कर चुके हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *