ये बैक्टीरिया ले सकता है जान

नई दिल्ली | संवाददाता: अगर आप बीमार हैं तो आपकी ज़िंदगी सुपरबग के कारण ख़तरे में पड़ सकती है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है कि ऐसे कई बैक्टीरिया सामने आये हैं, जिनकी कोई दवा नहीं है. इन बैक्टीरिया पर किसी भी तरह का कोई भी मौजूदा एंटीबॉयोटिक काम नहीं कर रहा है. ऐसे में ये बैक्टीरिया जानलेवा साबित हो सकते हैं.


विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि जिन ख़तरनाक और जानलेवा बैक्टीरिया की पहचान की गई है, उनमें ई. कोली सबसे ऊपर है. यह ग्राम-नेगेटिव बग कमज़ोर और बीमार लोगों में हमले करके उनमें संक्रमण फैला सकता है. इससे व्यक्ति आसानी से निमोनिया का भी शिकार हो सकता है.

इसी तरह क्लेबसीला बैक्टीरिया का भी ज़िक्र विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपनी रिपोर्ट में करते हुये कहा है कि यह कार्बापेनेम्स जैसी शक्तिशाली एंटीबॉयोटिक से भी ख़त्म नहीं हो रहा है. इससे इन बैक्टीरिया की भयावहता का अनुमान लगाया जा सकता है. जर्मनी में आयोजित जी 20 की बैठक में इन समस्याओं पर गंभीरता से चर्चा की जायेगी.

हालांकि वैज्ञानिक यह भी मान रहे हैं कि इस तरह की बैक्टीरिया से निपटने के लिये सरकारों को आगे आना होगा क्योंकि एंटीबॉयोटिक दवा कंपनियों का ध्यान अधिक से अधिक मुनाफा कमाना है, ऐेसे में ख़तरनाक घोषित बैक्टीरिया से गरीब और आम आदमी मुकाबला नहीं कर पायेंगे.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार ये हैं ख़तरनाक बैक्टीरिया-

CRITICAL
Acinetobacter baumannii (carbapenem-resistant)
Pseudomonas aeruginosa (carbapenem-resistant)
Enterobacteriaceae, including Klebsiella, E. coli, Serratia, and Proteus (carbapenem-resistant, ESBL-producing strains)

HIGH PRIORITY
Enterococcus faecium (vancomycin-resistant)
Staphylococcus aureus (methicillin-resistant, vancomycin-intermediate and resistant)
Helicobacter pylori (clarithromycin-resistant)
Campylobacter spp. (fluoroquinolone-resistant)
Salmonellae (fluoroquinolone-resistant)
Neisseria gonorrhoeae (cephalosporin-resistant, fluoroquinolone-resistant)

MEDIUM PRIORITY
Streptococcus pneumoniae (penicillin-non-susceptible)
Haemophilus influenzae (ampicillin-resistant)
Shigella spp. (fluoroquinolone-resistant)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!