13 अंकों के मोबाइल नंबर की खबर झूठी

नई दिल्ली | संवाददाता: आने वाले दिनों में मोबाइल नंबर के 13 अंकों में होने की खबर पूरी तरह से अफवाह है. बीएसएनएल ने एक ट्वीट कर के भी इस खबर का खंडन किया है.

पिछले कुछ दिनों से मीडिया में तेज़ी से यह अफवाह फैली कि जुलाई 2018 तक सभी टेलिकॉम ऑपरेटरों को कहा गया है कि वे मोबाइल नंबर को 13 अंकों का कर लें. सोशल मीडिया खास कर वाट्सऐप विश्वविद्यालय में इस बात के नफा-नुकसान और दुनिया भर के आंकड़े जारी कर इस पर बहस भी शुरु कर दी गई. यही कारण है कि 13 अंकों के मोबाइल नंबर होने की आशंका को और बल मिला.


हालत ये हो गई कि सोशल मीडिया पर दूरसंचार विभाग का एक पत्र भी वायरल हो गया, जिसमें कथित रुप से मोबाइल नंबर को 13 अंकों का किये जाने संबंधी निर्देश था.


असल में हुआ ये कि दूरसंचार विभाग ने टेलिकॉम ऑपरेटरों से एम-टू-एम कम्यूनिकेशन यानी मशीन टू मशीन संचार के लिए 13 अंकों का नंबर जारी करने के निर्देश दिए थे. इसका मतलब केवल इतना भर होता है कि स्वाइप मशीन, कार, बिजली मीटरों आदि के लिये जो नंबर जारी होते हैं, उसे 13 अंकों का करने का निर्देश दिया गया था. टेलिकॉम ऑपरेटरों से एम-टू-एम कम्यूनिकेशन के लिये जुलाई 2018 तक 13 अंकों को जारी करने का निर्देश था. लेकिन इसे मीडिया में मोबाइल नंबर में बदलाव की तरह प्रचारित कर दिया गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!