रायपुर सहित 8 जिलों में फूड सेफ्टी विभाग का छापा

रायपुर | संजीव पांडेय: मिलावट की जांच के लिये फूड सेफ्टी विभाग ने 8 ज़िलों में छापा मारा है. छापामारी की कार्रवाई राजधानी रायपुर में भी हुई. बड़े मेगामार्ट से लेकर ढाबा, होटल तक में खाने-पीने की चीजों को जांचा, परखा गया. खाद्य पदार्थों की क्वालिटी जांचने के लिए सभी जगह से सेंपल लिए गए हैं, जिसे जांच के लिए स्टेट फूड टेस्टिंग लैब भेजा गया है.

फूड सेफ्टी विभाग के असिस्टेंट कमिश्नर अश्वनी देवांगन ने बताया कि कमिश्नर फूड सेफ्टी पीवी नरसिंहराव ने प्रदेश भर में सघन जांच के निर्देश दिए हैं. इसके तहत शनिवार को रायपुर के विशाल मेगामार्ट से रुचि सोया सनराइज रिफाइंड सनफ्लावर आइल एवं फारचुन सन लाइट रिफाइन सनफ्लावर आइल के एक-एक लीटर का पैकेट सेंपल के तौर पर जब्त किया गया है. रुचि सोया सनराइज रिफाइन सनफ्लावर आइल के एक-एक लीटर के 150 पैकेट को जब्त भी किया गया है.


इसी तरह दुर्ग के रोयाल खालसा ढ़ाबा से ओनियन ग्रेवी, इंडियन कॉफी हाउस से दाल फ्राई के सेंपल लिए गए. जशपुर के मोती होटल से कूक्ड राइस तो अंबिकापुर के पंचामृत रेस्टोरेंट से आलू दम के सेंपल लिए गए. धमतरी के ओम साईं भोजनालय से वेज ग्रेवी और बलरामपुर के गणेश भोजनालय से छोले की सब्ब्जी बतौर सेंपल जब्त किए गए.

दंतेवाड़ा के हॉटल हील टॉप से बीरियानी राइस, कोरिया के दानापानी ढ़ाबा से कूक्ड राइस का भी सेंपल लिया गया. सभी सेंपल को स्टेट फूड टेस्टिंग लैब में जमा कराया गया है. इन खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता जांच की रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी. ऐसा पहली बार हुआ है, जब फूड सेफ्टी विभाग ने एक साथ 8 जिलों में कार्रवाई की हो.

एक ही लैब, जांच पर सवाल
फूड सेफ्टी विभाग की तमाम कार्रवाई, उसकी जांच प्रक्रिया सवालों के घेरे में है. खाद्य पदार्थों में मिलावट की जांच के लिए प्रदेश में एक ही लैब है. कार्रवाई किसी जिले में हो, उसे टेस्टिंग के लिए रायपुर स्थित लैब भेजा जाता है.

शनिवार की कार्रवाई में दंतेवाड़ा से बीरियानी राइस तो अंबिकापुर से आलू दम का सेंपल लिया गया. इन खाद्य पदार्थों को लैब तक पहुंचने में न्यूनतम 8 घंटे का वक्त लगेगा. इतने समय में गुणवत्ता जब्ती के समय की तरह बने रहे, यह लगभग असंभव है. हॉटल, ढाबा संचालकों को कोर्ट में इसी का फायदा मिलता है और विभाग ही कटघरे में नजर आता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!