नोटबंदी के बाद 564 नक्सली सरेंडर

रायपुर | संवाददाता: नोटबंदी के बाद देशभर में 564 नक्सलियों ने सरेंडर किया है. केन्द्रीय गृह मंत्रालय के आकड़ों के अनुसार साल 2016 में देशभर में कुल 1399 नक्सलियों ने सरेंडर किया है. इस तरह से नोटबंदी के बाद करीब 40 फीसदी सरेंडर हुये हैं. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी ने अपने बनारस दौरे के समय कहा था, नोटबंदी के कारण नक्सलवाद पर भी काबू पाया जा रहा है, माओवादियों के पास खाने तक के पैसे नहीं हैं इसलिए वो भारी मात्रा में आत्मसमर्पण कर रहे हैं.

जहां तक नक्सलवाद-माओवाद से देश के सबसे प्रभावित राज्य छत्तीसगढ़ की बात करें तो बीबीसी हिन्दी के अनुसार नोटबंदी के बाद 30 नक्सलियों ने सरेंडर किया है.


जबकि, जनवरी से लेकर अक्टूबर तक छत्तीसगढ़ के बस्तर में करीब 1165 नक्सलियों ने सरेंडर किया था अर्थात् औसतन हर माह 116 नक्सलियों ने सरेंडर किया था.

समाचार पत्रों की खबर के अनुसार देशभर के उग्रवाद एवं आतंकवाद से संबंधित आकड़ें रखने वाली गैर सरकारी संगठन के आकड़ों के अनुसार वामपंथी उग्रवाद के कारण साल 2016 में 25 दिसंबर तक 118 नागरिकों, सुरक्षा बलों के 66 एवं 244 नक्सली-माओवादी मारे गये हैं.

इस तरह से साल 2016 में अबतक 244 नक्सली देशभर में मारे गये हैं. जिनमें से आंध्रप्रदेश में 5, बिहार में 9, छत्तीसगढ़ में 133, झारखंड में 40, केरल में 2, महाराष्ट्र में 12, तेलंगाना में 1, ओडिशा में 42 तथा मध्यप्रदेश में शून्य नक्सली सुरक्षा बलों द्वारा मारे गये हैं.

इस साल अब तक देश में सबस् ज्यादा नक्सली छत्तीसगढ़ में 133 मारे गये हैं. उसके बाद ओडिशा में 42 तथा झारखंड में 40 मारे गये हैं.

देशभर में नक्सलियों के मारे जाने के आकड़ें माहवार इस प्रकार से हैं- जनवरी में 34, फरवरी में 20, मार्च में 20, अप्रैल में 14, मई में 13, जून में 16, जुलाई में 17, अगस्त में 15, सितंबर में 25, अक्टूबर में 37, नवंबर में 24 तथा दिसंबर में अब तक 9 है.

इस तरह से देशभर में सबसे ज्यादा नक्सली अक्टूबर में 37, जनवरी में 34 तथा सितंबर में 25 मारे गये हैं. नवंबर माह में नक्सलियों के मारे जाने की संख्या 24 है.

इसी तरह से देश में नक्सलवाद-माओवाद से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के मारे जाने के माहवार आकड़ें हैं- जनवरी में 21, फरवरी में 9, मार्च में 14, अप्रैल में 1, मई में 8, जून में 4, जुलाई में 11, अगस्त में 14, सितंबर में 16, अक्टूबर में 6, नवंबर में 16 एवं दिसंबर में अबतक 8 है.

इस तरह से छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा नक्सली जनवरी में 21, सितंबर एवं नवंबर में 16 तथा अगस्त में 14 मारे गये हैं.

(बीबीसी हिन्दी के इनपुट के आधार पर.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!