US में एक और भारतीय की हत्या

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: अमरीका में एक और भारतीय की हत्या कर दी गई है.
गुरुवार को भारतीय मूल के व्यवसायी हर्निश पटेल की रात के 11:45 बजे गोली मार कर हत्या कर दी गई है. हर्निश पटेल इससे 10 मिनट पहले ही दुकान बंद करके अपने घर की ओर निकले थे. हर्निश पटेल को सैंकेस्टर में उनके घर के बाहर गोली मारी गई है.

हर्निश पटेल की यह हत्या, ट्रंप के उस बयान के दो दिन बाद हुई है जिसमें उन्होंने कनसास बार में भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास की हत्या को ‘घृणा और बुराई से भरा कृत्य’ बताया था.


उधर लैंसेस्टर की पुलिस को नहीं लगता कि यह घृणा अपराध का मामला है और जांच शुरू कर दी गई है. इलाके के काउंटी शेरीफ ने कहा है कि “यह अपराध रंगभेद से प्रेरित होकर किया गया है मुझे इसकी कोई वजह नहीं दिखती.”

स्थानीय मीडिया के मुताबिक, हर्निश की हत्या को लेकर लैंकैस्टर के लोगों में काफी नाराजगी है. हर्निश की दुकान शहर के शेरिफ दफ्तर के पास ही थी. उनके परिवार में अब उनकी पत्नी और एक छोटा बच्चा है. हर्निश को श्रद्धांजलि देने के लिये लोग उनकी दुकान के बाहर बलून्स और फूल छोड़कर जा रहे हैं. इनमें भारतीय मूल के लोगों के अलावा बड़ी संख्या में अमरीकी भी शामिल हैं. दुकान पर एक पोस्टर भी लटका है जिसपर लिखा है, “परिवार में आपातकालीन स्थिति के कारण यह दुकान कुछ दिनों के लिए बंद है. असुविधा के लिए खेद है.”

उल्लेखनीय है कि 22 फरवरी को कैंजस में एक श्वेत अमेरिकी नागरिक ने बार में बहस होने के बाद भारतीय मूल के श्रीनिवास और उनके दोस्त आलोक मदासानी को गोली मार दी थी. इस हादसे में श्रीनिवास मारे गये. आरोपी ने दोनों को ‘आतंकवादी’ भी कहा था. गोली चलाते हुए आतंकी ने श्रीनिवास और आलोक को अमरीका से बाहर चले जाने को भी कहा था. आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. भारत और अमरीका, दोनों ही देशों में इस वारदात की काफी निंदा हुई.

न्यूयॉर्क में रहने वाली एक भारतीय युवती एकता देसाई ने भी एक फेसबुक पोस्ट में अपने साथ ट्रेन यात्रा के दौरान नस्लीय दुर्व्यवहार होने की शिकायत की है. एकता ने एक विडियो भी पोस्ट किया, जिसमें एक अश्वेत अमरीकी नागरिक उन्हें नस्लीय गालियां देता हुये दिख रहा है. जिस समय यह घटना हुई, उस समय ट्रेन में कई लोग मौजूद थे, लेकिन कोई भी एकता की मदद के लिए सामने नहीं आया. एकता का यह पोस्ट सोशल मीडिया पर बहुत वायरल हुआ है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!