रूस के ‘हनी ट्रैप’ में डोनाल्ड ट्रंप ?

नई दिल्ली | विशेष संवाददाता: डोनाल्ड ट्रंप के अमरीकी राष्ट्रपति पद का शपथ लेने से पहले ही उनके रूस के ‘हनी ट्रैप’ में फंसे होने की खबर है. एक अमरीकी न्यूज के समाचारों के अनुसार रूसी खुफिया एजेंसियों के पास डोनाल्ड ट्रंप के कथित सेक्स वीडियो हैं. जिसमें वे मास्को के उसी होटल के उसी रूम में जिसमें कभी बराक ओबामा ठहरे थे रूसी वेश्याओं के साथ सेक्स एक्ट करते हुये दिखाई दे रहें हैं. खबर चौंकाने वाली है. इससे पहले अमरीकी खुफिया एजेंसियों पर शीत युद्ध के दौर में आरोप लगते रहे हैं कि वे दुनिया के कई देशों के नेताओं तथा प्रभावशाली लोगों के ‘सुंदरियों के जाल’ में फंसाकर उनसे सूचनायें हासिल करते रहें हैं.

खबर यह है कि रूसी खुफिया एजेंसियों के पास अमरीका के इस बार के दोनों राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप तथा हिलेरी क्लिंटन के बारें में गुप्त सूचनायें थी. जिनमें से उन्होंने हिलेरी के मेल वाली बात सार्वजनिक करके उन्हें हराने में कोई कसर नहीं छोड़ी. रही बात, अमरीका के प्रेसिडेंट इलेक्ट डोनाल्ड ट्रंप की तो उसके बारे में रूसी एजेंसियों के पास भयंकर सूचनायें हैं जिन्हें सार्वजनिक नहीं किया गया.


खुफिया डोजियर को डाउनलोड करने के लिये क्लिक करें

अब, रूसी सूत्रों ने नहीं बल्कि इग्लैंड के खुफिया सूत्रों ने अमरीकी खुफिया एजेंसी को यह जानकारी दी है कि डोनाल्ड ट्रंप का सेक्स वीडियो रूस के पास है. दावा किया जा रहा है कि इसके आधार पर ट्रंप को ब्लैकमेल किया जाता रहा है. बताया जा रहा है कि इसी कारण से डोनाल्ड ट्रंप पिछले पांच सालों से रूस को समर्थन देते आये हैं. अमरीकी खुफिया एजेंसियों ने यह जानकारी राष्ट्रपति बराक ओबामा, डोनाल्ड ट्रंप और अमरीकी कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं को शुक्रवार को दे दी है.

These Reports Allege Trump Has Deep Ties To Russia

यदि वाकई में रूसी खुफिया एजेंसी के पास डोनाल्ड ट्रंप की कोई ऐसा वीडियो है तो आने वाले समय में रूस, अमरीका पर हावी रहेगा. वैसे भी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन एक शातिर राजनीतिज्ञ माने जाते हैं जिन्होंने अपने विरोधी हिलेरी क्लिंटन को चुनाव के पहले कई झटके दिये हैं.

जाहिर है कि आज शीतयुद्ध का दौर समाप्त हो गया है. अमरीका तथा रूस के बीच परमाणु हथियारों की होड़ पहले जैसी नहीं है. और न ही दोनों अपने मतलब के देशों में पिठ्ठू सरकारें बैठाने के लिये पहले समान मरिया हुये जा रहें हैं परन्तु दुनिया में अमरीकी चौधराहट को मानने के लिये कम से कम पुतिन तो तैयार नहीं हैं. ऐसे में डोनाल्ड ट्रंप की कोई कमजोर नस यदि पुतिन को मिल जाये तो वे उसका भरपूर फायदा लेने से पीछे नहीं हटेंगे.

वैसे, डोनाल्ड ट्रंप ने इस खबर को गलत बताया है कि उनके रूस के साथ घनिष्ठ संबंध हैं. डोनाल्ड ट्रंप ने इस खबर पर सफाई दी है कि “didn’t happen” and are “a disgrace.” है. मास्को के होटल के कमरे के बारें में पूछे गये सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, “I’m also very much of a germophobe, by the way, believe me.”

Donald Trump Blasts Allegations In Dossier Claiming He Has Close Ties To Russia

उधर, अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा अपने विदाई की तैयारी कर रहें हैं. शपथ ग्रहण के बाद डोनाल्ड ट्रंप व्हाइट हाऊस के उस ओवेल ऑफिस में बैठेंगे जिसमें बैठकर ओबामा ने अमरीकी इतिहास में उसके बड़े दुश्मन ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान की सीमा में घुसकर मारने का फैसला लिया था. इससे पहले भी अमरीकी राष्ट्रपतियों ने इसी ओवेल ऑफिस में बैठकर अमरीका के विदेश, व्यापारिक, सामरिक तथा अन्य हितों की रक्षा की थी. डोनाल्ड ट्रंप अपने शपथ ग्रहण के पहले अमरीकियों को कितना विश्वास दिला पाते हैं कि रूस के पास उनकी कमजोर नस होने का दावा हकीकत नहीं है, यह दुनिया जरूर देखना चाहेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!