ब्लॉस्टिंग के दौरान 2 की मौत

दुर्ग | समाचार डेस्क: छत्तीसगढ़ के एक गांव में बोरिंग में ब्लॉस्ट करते समय हुई दुर्घटना में दो मजदूरों की मौत हो गई है. मिली जानकारी के अनुसार बुधवार शाम के करीब 7:30 बजे दो मजदूर पानी निकालने के लिये बोरवेल में ब्लॉस्ट की तैयारी कर रहे थे. उसी समय शॉर्टसर्किट होने से पास में रखे विस्फोटकों में विस्फोट हो गया. जिससे दोनों मजदूरों के चिथड़े उड़ गये.

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि खेत में अंधेरा था तथा बोरवेल के मजदूर टार्च की रोशनी में काम रहे थे. इसी दौरान गलत तार जुड़ने की आशंका व्यक्त की जा रही है.


पुलिस ने बोलवेल के ठेकेदार के खिलाफ अपराध पंजीकृत कर लिया है. बताया जा रहा है कि जब ब्लॉस्ट हुआ वहां पर पचास के करीब ग्रामीण खड़े थे जो बाल-बाल बचे.

दरअसल, बालोद से 25 किलोमीटर दूर नवागांव के कोटवार नेतराम देवदास ने अपने खेत में चार पहले बोर करवाया था परन्तु उससे पानी नहीं निकला था. इस कारण से उसने पलारी के ठेकेदार व उप सरपंच मुकेश साहू को चार हजार रुपयों में उसमें ब्लॉस्ट करवाने का ठेका दिया था.

ठेकेदार ने ब्लॉस्ट करने के लिये दो मजदूर बुलवाये थे. जिन्होंने पहले 200 फीट की गहराई में ब्लॉस्ट किया परन्तु उससे पानी नहीं निकला. इसके बाद वे दूसरे ब्लॉस्ट की तैयारी कर रहे थे कि यह हादसा हो गया. बिजली की शॉर्टसर्किट के कारण खेत में रखे बारूद में विस्फोट हो गया.

बारूद के ब्लॉस्ट में मरने वाले मजदूरों के नाम थलेश तथा रामदेव की मौत हो गई. वहीं, मेहतरू राम नाम का ग्रामीण गंभीर रूप से घायल हो गया. जिसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!