ट्रक ने बाइक को रौंदा, 3 की मौत

अंबिकापुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ के सरगुजा में तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक को रौंद दिया जिससे उसमें सवार तीन लोगों की मौत हो गई है. दो, सवारों की मौके पर ही मौत हो गई तथा तीसरे की मौत अस्पताल में हुई है. पुलिस ने ट्रक ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया है. मिली जानकारी के अनुसार यह हादसा मंगलवार-बुधवार की रात बनारस रोड पर हुआ है.

पुलिस से मिली सूचना के अनुसार बिश्रामपुर के बतरा गांव के निवासी 21 वर्षीय जयसिंह, 23 वर्षीय अनूप सिंह तथा 22 वर्षीय मनोज सिंह मंगलवार को ग्राम चंद्रमेढ़ा के बरपटिया में अपने एक रिश्तेदार के यहां ब्रह्भोज कार्यक्रम में गये थे. खाना खाने के बाद देर रात को तीनों एक बाइक में वापस घर जाने के लिये निकले. इनके पीछे से दो अन्य रिश्तेदार भी दूसरी बाइक में थे.


जयसिंह, अनूप व मनोज एक बाइक में कुछ आगे-आगे चल रहे थे. इसी दौरान ग्राम कपसरा मसान नाले के पास अंबिकापुर की ओर से तेज रफ्तार में आ रहे ट्रक क्रमांक यूपी 72टी- 7828 ने टक्कर मार दी जिससे दो सवारों अऩूप एवं मनोज की मौके पर ही मौत हो गई.

इसी बीच पीछे से दूसरी बाइक में आ रहे उनके रिश्तेदार वहां पहुंचे. तब तक जयसिंह की सांसें चल रही थीं. उन्होंने एंबुलेंस से जयसिंह को मेडिकल कालेज अस्पताल अंबिकापुर भिजवाया. जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

पीछे से आ रहे रिश्तेदारों ने ट्रक का नंबर नोट कर लिया था. उनकी सूचना के आधार पर पुलिस ने घेराबंदी की परन्तु ट्रक दरती के पास जंगल में मिला. दरअसल, ट्रक चालक वहां छुपा हुआ था. पुलिस ने ट्रक चालको को गिरफ्तार कर लिया है.

बताया जा रहा है कि तीनों में से किसी ने भी हेलमेट नहीं पहनी हुई थी. यदि ऐसा करते तो शायद कुछ जान बच सकती थी. गौरतलब है कि पिछले माह सरगुजा के बलरामपुर में तीन बाइक सवारों के पेड़ से टकरा जाने के कारण मौत हो गई ती. उनमें से किसी ने भी हेलमेट नहीं पहना था.

सरकारी आकड़ों के अनुसार छत्तीसगढ़ में हेलमेट पहनने से साल 2015 में करीब 1243 जानें बचाई जा सकती थी. केन्द्र सरकार की एक रिपोर्ट से इसका खुलासा हुआ है.

छत्तीसगढ़ में साल 2015 में सड़क दुर्घनाओं में कुल 4082 जानें गई जिनमें से 1243 दोपहिया वाहनों के सवार/चालक थे. उल्लेखनीय है कि कुछ समय पहले छत्तीसगढ़ में हेलमेट पहनने के लिये जोरदार अभियान चलाया गया था. हेलमेट पहनने से दोपहिया सवार/चालकों जानलेवा सड़क दुर्घनाओं से बच सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!