मस्तूरी रेपकांड की CBI जांच की मांग

बिलासपुर | संवाददाता: अमित जोगी ने मस्तूरी रेपकांड की CBI जांच की मांग की है. छत्तीसगढ़ के मरवाही के विधायक अमित जोगी ने गुरुवार को आईजी से मिलकर मस्तूरी रेप व हत्याकांड की सीबीआई से जांच कराने की मांग की है. अमित जोगी का आरोप है कि वे खुद बुधवार को मामले की विवेचना करने गये थे. जहां पर उन्होंने पाया कि युवती के घर देवगांव से जयरामनगर जाने के बीच के चार किलोमीटर के रास्ते में शराब की 2 अवैध दुकानें चल रही है. अमित जोगी का कहना है कि अवैध शराब दुकान शासन-प्रशासन के संरक्षण में चल रहा है. साथ ही स्थानीय पुलिस के कुछ कर्मियों के अवैध शराब दुकान के मालिकों के साथ सांठ-गांठ है.

अमित जोगी का आरोप है कि दोषियों का अब तक न पकड़े जाने से ऐसा प्रतीत होता है कि इस पूरे मामले में स्थानीय पुलिस कर्मियों की भूमिका संदेहहास्पद है तथा दोषियों को बचाने में उनकी संलिप्तता को नकारा नहीं जा सकता. इसलिये इस पूरे मामले की गहन जांच सीबीआई से कराई जानी चाहिये.


गौरतलब है कि बिलासपुर जिले के जयरामनगर के चावला मेडिकल स्टोर में काम करने वाली 19 वर्षीय लड़की की अज्ञात लोगों ने 6-7 जनवरी की रात हत्या कर उसे जयरामनगर के देवगांव मार्ग पर खुडूभाटा में फेंक दिया था. 8 जनवरी को इससे आक्रोशित गांव वालों ने मस्तूरी थाने के सामने शव रखकर घंटाभर चक्का जाम किया. कुछ संगठनों ने इस रेप तथा हत्या विरोध में 9 जनवरी को बिलासपुर बंद का आव्हान् किया था.

छत्तीसगढ़ के राज्यपाल के नाम सौंपे गये ज्ञापन में विधायक अमित जोगी ने मांग की है कि अवैध शराब की भट्टियों को बंद कराया जाये, मामले की सीबीआई से जांच कराई जाये, मृतका के परिवार को शासन की ओर से तत्काल 20 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाये, मृतका के पिता को सरकारी नौकरी दी जाये तथा उषा मेहता आयोग की अनुशंसा लागू कर रेप क्राइसिस सेंटर प्रदेश के प्रत्येक जिला अस्पताल में खोले जाये.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!