छत्तीसगढ़: मगरमच्छ के बच्चों की बिक्री

जगदलपुर | समाचार डेस्क: छत्तीसगढ़ के जगदलपुर में मगरमच्छ के नवजात बच्चों को बेचा जा रहा है. जगदलपुर के जोड़े नाले के मुहाने पर एक मादा मगरमच्छ ने अंडे दिये हैं. उन अंडों से अब बच्चे निकलने शुरु हो गये हैं. इन्हें ग्रामीण 500-1000 रुपयों में बेच रहे हैं. बताया जा रहा है कि कुछ ग्रामीणों ने इन्हें मारकर इनकी सब्जी बनाकर खा लिया है.

खबर मिलने पर कोटपाड़ से एक वन रेंजर ने आकर गुरुवार पूछताछ की तथा वापस लौट गया. जानकारों का कहना है कि इंद्रवती नदी. कांगेर धारा तथा भैंसा दरहा में इनकी मौजूदगी के प्रमाण मिले हैं. इंद्रवती में रहने वाले ये मगरमच्छ मार्श क्रोकोडाईल प्रजाति के होते हैं जो संरक्षित प्रजाति के हैं.


मगरमच्छ दो प्रकार के होते हैं. एक खारे पानी के मगरमच्छ दूसरा मीठे पानी का मगरमच्छ. इऩकी 23 प्रजातिया पहचानी जा चुकी हैं. जिनमें से ज्यादातर विलुप्ति के कगार पर है. मगरमच्छ इस धरती पर 24 करोड़ साल से रह रहे हैं. मीठे पानी के मगरमच्छ, खारे पानी के मगरमच्छ से आकार में छोटे होते हैं.

मार्श प्रजाति के मगरमच्छ को Crocodylus palustris कहा जाता है. यह मीठे पानी तथा ताजे पानी के नदी-नालों तथा तालाब में पाया जाता है. पिछले कुछ समय से शिकार के कारण यह प्रजाति खतरे में पड़ गई है.

फोटो: प्रतीकात्मक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!