छत्तीसगढ़: बस्तर में कुपोषण बढ़ा

रायपुर | संवाददाता: बस्तर संभाग में कुपोषण कम होने का नाम नहीं ले रहा है.
छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में कुपोषित बच्चों की संख्या घटने के बजाये बढ़ रही है. राज्य सरकार के तमाम कोशिशों के बावजूद इस पर लगाम नहीं लगाया जा सक रहा है. सुकमा तथा बीजापुर में कुपोषित बच्चों की संख्या बढ़ रही है. खासकर, सुकमा में कुपोषित बच्चों की संख्या पिछले तीन सालों में लगातार बढ़ती जा रही है. बीजापुर में साल 2016 में साल 2015 की तुलना में कुपोषण घटा है परन्तु 2014 की तुलना में बढ़ा है.

बस्तर जिला में साल 2014 में 32,053 कुपोषित बच्चे थे जो साल 2016 में बढ़कर 32,532 हो गये. इसी तरह से कोण्डागांव में 2014 में 21,739 कुपोषित बच्चे थे जो 2016 में बढ़कर 21,754 हो गये. सुकमा की स्थिति तो और हैरान कर देने वाली हैं. यहां साल 2014 में 6,935 कुपोषित बच्चे थे जो साल 2016 में बढ़कर 9,806 हो गये. खुद छत्तीसगढ़ सरकार के अनुसार सुकमा में तीन साल में कुपोषित बच्चों की संख्या 2,871 बढ़ गई है.


बस्तर संभाग में दंतेवाड़ा, नारायणपुर तथा कांकेर के आंकड़े राहत देने वाले हैं. यहां कुपोषित बच्चों की संख्या में कमी आई है. दंतेवाड़ा में साल 2014 में 1,157 कुपोषित बच्चे पाये गये थे जो साल 2016 में घटकर 9,128 हो गये हैं. इसी तरह से नारायणपुर में 2014 में 6,249 कुपोषित बच्चे थे जो 2016 में घटकर 5,310 हो गये. कांकेर में साल 2014 में 22,557 कुपोषित बच्चे थे 2016 में घटकर 18,982 हो गये. कांकेर में पिछले तीन सालों में 3,575 कुपोषित बच्चों की संख्या में कमी आई है.

बीजापुर में पिछले तीन सालों में कुपोषित बच्चों की संख्या 3,534 बड़ी है. यहां पर साल 2014 में कुपोषित बच्चों की संख्या थी 7,076 जो साल 2016 में बढ़कर 1,610 की हो गई है.

गौरतलब है कि कुपोषण एक ऐसी स्थिति है जो लम्बे समय तक पोषणयुक्त आहार ना मिल पाने के कारण पैदा होती है. कुपोषित बच्चों की रोग प्रतिरोधी क्षमता कमज़ोर होती है और ऐसे बच्चे अकसर बीमार रहते है. कुपोषण के कारण बच्चों की त्वचा और बाल रूखे-बेजान दिखते हैं और वज़न कम होने लगता है.

सिर्फ इतना ही नहीं कुपोषण के कारण बच्चे का विकास भी रूक जाता है. और अगर समय रहते कुपोषण का इलाज ना कराया जाये तो यह समस्या जानलेवा भी हो सकती है.

बस्तर संभाग में कुपोषण की स्थिति

जिला                  2014                       2015                             2016

बस्तर                 32,053                   33,640                          32,532
कोण्डागांव           21,739                   23,554                          21,754
सुकमा               6,935                   8,066                            9,806
दंतेवाड़ा             10,157                   9,525                            9,128
नारायणपुर       6,249                   6,089                             5,310
बीजापुर             7,076                   10,864                            10,610
कांकेर               22,557                  21,477                             18,982

कुल                 1,06,766               1,13,215                            1,08,122

संबंधित खबरें-

4 रुपये 80 पैसे में कुपोषण दूर!

कुपोषण का घर है पोरियाहुर

छत्तीसगढ़: कुपोषण के शिकार आदिवासी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!