छत्तीसगढ़: रमन का एजेंडा विकास

राजनांदगांव | संवाददाता: भाजपा की छत्तीसगढ़ कार्यसमिति में रमन सिंह के तेवर तीखें थे. उन्होंने अपने आधे घंटे के संबोधन में कहा कि पदाधिकारियों को ही सरकारी योजनाओं के बारें में पता नहीं है. रमन सिंह ने तंज कसा कार्यसमिति की बैठक में भी समोसे-आलूगुंडे पर लोगों का ध्यान है. उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि कुर्ता-पायजामा पहन लेने से कोई नेता नहीं बन जाता है.

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने अपने पार्टी की कार्यसमिति की बैठक में पदाधिकारियों को चेताया कि घमंड छोड़कर काम करने में जुट जाये. उन्होंने कहा कि यदि नहीं बदलेंगे तो जनता उन्हें बदल देगी. रमन सिंह ने कार्यकर्ताओं को सरकार की योजनाओं को जनता तक ले जाने का आव्हान् किया. उन्होंने कहा कि जनता और जनप्रतिनिधियों के साथ ठीक से व्यवहार न करने वाले कलेक्टरों को बदल दिया जायेगा.


शनिवार को राजनांदगांव में मुख्यमंत्री रमन सिंह के तेवर ठीक प्रधानमंत्री मोदी के समान थे. गौरतलब है कि हाल ही में पीएम मोदी ने अधिकारियों की प्रेजेंटेशन ठीक न होने के कारण बीच में ही मीटिंग छोड़ दी थी. मोदी एक सख्त प्रशासक के रूप में जाने जाते हैं. जो अधिकारियों से लेकर अपने पार्टी के कार्यकर्ताओं से भी काम के प्रति समर्पण की अपेक्षा रखते हैं. केन्द्र सरकार में भी काम न करने वाले अफसरों को भाव नहीं दिया जाता है. ठीक उसी तरह से मोदी अपने मंत्रियों के कामकाज पर भी गहरी नज़र रखते हैं.

छत्तीसगढ़ में भाजपा ने पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस से महज 0.70 फीसदी ज्यादा मत पाया था. जिस तरह से छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल तथा टीएस सिंहदेव के नेतृत्व में कांग्रेस ने हमलावर रुख अख्तियार कर रखा है उससे मुख्यमंत्री रमन सिंह सर्तक हैं. रमन सिंह का पूरा जोर सरकार के विकास योजनाओं के बल पर जनता का समर्थन प्राप्त करना है. इसके लिये जरूरी है कि उनकी पार्टी के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता सरकारी योजनाओं का जनता के बीच प्रचार-प्रसार करके जन समर्थन बढ़ाये. माना जा रहा है कि इसीलिये उनका पूरा जोर इस पर है कि पार्टी के लोगों को सरकारी योजनाओं की पूरी जानकारी हो.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!