छत्तीसगढ़: नोटबंदी से आई मंदी, छाई छंटनी

रायपुर | संवाददाता: नोटबंदी के बाद से छत्तीसगढ़ के उद्योगों में मंदी छा गई है तथा करीब 52 हजार मजदूरों की छंटनी की गई है. खनिज संपदा से भरपूर छत्तीसगढ़ में स्टील व केमिकल उद्योग पस्त पड़े हैं. छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के पास के उरला औद्योगिक क्षेत्र के स्टील फैर्ट्री के संचालक जेपी अग्रवाल का कहना है कि मजदूर अपनी मजदूरी नगदी में ही मांग रहें हैं. उनका कहना है कि बैंक के माध्यम से भुगतान करने से हम मजदूरी करने आयेंगे कि पैसे निकालने बैंक जायेंगे. इससे अत्छा है कि हम कोई दूसरा काम कर लेंगे.

छत्तीसगढ़ उद्योग महासंघ के महेश कक्कड़ के अऩुसार रायपुर में 15 हजार, दुर्ग-भिलाई में 20 हजार, रायगढ़ में 10 हजार तथा बिलासपुर में 7 हजार मजदूरों की छंटनी हो चुकी है. उनका कहना है कि नोटबंदी के बाद से मांग घटने के कारण उत्पादन 60 फीसदी तक घटा है. जब उत्पादन घटा है तो मजदूरों की जरूरत ही नहीं है. इस कारण से वे बेरोजगार हो गये हैं.


गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ से महाराष्ट्र, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, झारखंड, बिहार, उत्तरप्रदेश तथा दक्षिण के राज्यों में माल जाता था. जहां पर अब मांग एकदम से घट गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!