कोरोना मरीज़ों के ठीक होने में छत्तीसगढ़ नंबर 1

रायपुर | संवाददाता: देश के बड़े राज्यों में कोरोना के मरीज़ों के ठीक होने की दर छत्तीसगढ़ में सबसे बेहतर है. इसके उलट देश में सबसे पीछे गुजरात है.

शुक्रवार की शाम तक जारी भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़े बताते हैं कि छत्तीसगढ़ में 36 मरीज़ मिले थे, जिनमें से 30 मरीज़ों को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी मिल गई. इस तरह छत्तीसगढ़ में अस्पताल से छुट्टी पाने वाले कोरोना संक्रमितों की संख्या 83.33 प्रतिशत है.


छत्तीसगढ़ के बाद दूसरा नंबर केरल का है, जहां अब तक 448 मरीज़ों में से 324 को अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है. यह कुल मरीज़ों का 72.32 प्रतिशत है. हालांकि केरल में 3 मरीज़ों को अपनी जान भी गंवानी पड़ी है.

तीसरे नंबर पर हरियाणा को लिया जा सकता है, जहां 272 संक्रमित मरीज़ों में से 156 को अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है. यह कुल संक्रमित मरीज़ों का 72.32 प्रतिशत है.

बड़े राज्यों की बात करें तो देश में कोरोना संक्रमित मरीज़ों के ठीक होने की दर सबसे कमज़ोर गुजरात में है. गुजरात में अब तक 2624 लोग कोरोना से संक्रमित पाये गये हैं. इनमें से केवल 258 मरीज़ों को ही अस्पताल से छुट्टी मिल पाई है. गुजरात का रिकवरी रेट केवल 9.83 प्रतिशत है. गुजरात में 112 लोगों की कोरोना संक्रमण से मौत हुई है.

क्रम राज्य कुल संक्रमित मृत ठीक हुये ठीक होने वालों का %
1 अरुणाचल प्रदेश 1 1 100
2. मणिपुर 2 2 100
3 गोवा 7 7 100
4 छत्तीसगढ़ 36 30 83.33
5 लद्दाख 18 14 77.78
6 केरल 448 3 324 72.32
7 हरियाणा 272 3 156 57.35
8 असम 36 1 19 52.78
9 चंडीगढ़ 27 14 5185
10 उत्तराखंड 47 24 51.06
11 त्रिपुरा 2 1 50
12 अंडमान निकोबार 22 11 50
13 हिमाचल प्रदेश 40 1 18 45
14 तमिलनाडु 1683 20 752 44.68
15 पुड्डूचेरी 7 0 3 42.86
16 ओडिशा 90 1 33 36.67
17 कर्नाटक 463 18 150 32.4
18 दिल्ली 2376 50 808 34.01
19 बिहार 176 2 46 26.14
20 तेलंगाना 984 26 253 25.71
21 पंजाब 277 16 65 23.47
22 जम्मू व कश्मीर 427 5 92 21.55
23 पश्चिम बंगाल 514 15 103 20.04
24 आंध्र प्रदेश 955 29 145 15.18
25 झारखंड 55 3 8 14.55
26 महाराष्ट्र 6430 283 840 13.06
27 उत्तरप्रदेश 1604 24 206 12.84
28 राजस्थान 1964 27 230 11.71
29 मध्यप्रदेश 1852 83 203 10.96
30 गुजरात 2624 112 258 9.83
31 मेघालय 12 1 0 0
32 मिजोरम 1 0
स्रोतः स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!