डावोस: WEF के दूसरे दिन क्या हुआ

डावोस। डेस्क: WEF के दूसरे दिन डावोस में कई मुद्दों पर चर्चा हुई. फेक न्यूज समेत कई मुद्दे को डावोस के वर्ल्ड इकानामिक फोरम की बैठक में शामिल किया गया. सोशल मीडिया के इस दौर में फेक न्यूज को WEF पैनल ने बड़ी चुनौती बताया. फेसबुक, ट्विटर जैसे प्लेटफॉर्म आने के बाद खबरों को शेयर करने और कंज्यूम करने के अंदाज में तेजी से बदलाव आया है.
ऐसे में यूजर्स के लिए सबसे बड़ी समस्या ये पता लगाना बन गया है कि कौन सी खबर सच्ची है और कौन सी झूठी.
समिट में फेक न्यूज के राजनीति पर असर पर भी बातचीत की गई.
वहीं अलीबाबा ग्रुप के फाउंडर जैक मा ने अपने अनुभवों के जरिए दुनिया में ई-कॉमर्स के भविष्य और चुनौतियों के बारे में बताया.
इस दौरान कई देशों से आए प्रतिनिधि चर्चा में शामिल हुए.
सम्मेलन के दूसरे दिन जर्मनी की चांसलर एंगेला मर्केल ने भी दुनिया को इस मंच से संबोधित किया.
भारत में हम रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म कर रहे हैं: पीएम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डावोस में WEF में अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ भारत की भविष्य की गतिविधियों पर अपना ‘विजन’ पेश किया.
इस दौरान पीएम मोदी ने दुनिया को तीन चुनौतियों से आगाह किया. जलवायु परिवर्तन, आतंकवाद और संरक्षणवाद.


WEF में प्रधानमंत्री के भाषण की खास बातें:

भारत के लिए लोकतंत्र सिर्फ राजनीतिक व्यवस्था नहीं जीवन दर्शन और जीवन शैली है
हम भारतीय जानते हैं कि विविधता की एकता में लोकतंत्र का बड़ा महत्व है
125 करोड़ से अधिका भारतीयों के सपने और आकांक्षाओं को हकीकत बनाने का प्लेटफॉर्म देता है लोकतंत्र
भारत के करोड़ों मतदाताओं ने 30 साल बाद पहली बार किसी एक राजनीतिक पार्टी को सरकार बनाने के लिए पूर्ण बहुमत दिया है
हमने सबसे विकास का संकल्प किया, मेरी सरकार का मोटो है सबका साथ, सबका विकास.
हमारा मिशन समावेशी है, समावेशी दर्शन मेरी सरकार की हर नीति और योजना का आधार.
करोड़ों लोगों के लिए पहली बार बैंक खाते खुलाकर फाइनेंशियल इनक्लूजन.
डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ सभी में समावेशी दर्शन है.
हम सामाजिक और आर्थिक नीतियों में बड़े बदलाव कर रहे हैं.
रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म कर रहे हैं
निवेश के लिए सुगमता बनाने में हमारा कोई सानी नहीं है
भारत में निवेश, यात्रा, मैन्युफैक्चरिंग, काम करना, भारत से एक्सपोर्ट करना सब कुछ पहले के मुकाबले आसान हो गया है.
हमने लाइसेंस परमिट राज को जड़ से समाप्त कर रहे हैं
रेड टेप की जगह रेड कार्पेट बिछा रहे हैं, एफडीआई निवेश 90 परसेंट सेक्टर में आ गया है.
1400 से अधिक पुराने कानून बिजनेस, प्रशासन में अड़चन डाल रहे थे उन्हें खत्म कर दिया गया है.
दुनिया के सामने शांति, स्थिरता, सुरक्षा जैसे विषय को लेकर नई और गंभीर चुनौतियों का अनुभव कर रहे हैं
जोड़ने, मोड़ने और तोड़ने तीनों का प्रयोग सोशल मीडिया कर रहा है.
डेटा से सबसे बड़े अवसर बन रहे हैं और सबसे बड़ी चुनौतियां भी इसी से है.
डेटा को जो काबू में करेगा वही भविष्य पर अपना वर्चस्व बनाएगा.
साइबर सिक्योरिटी के क्षेत्र में तेजी से बदल रही टेक्नोलॉजी और गंभीर होती जा रही है.
स्विट्जरलैंड के डावोस में पीएम मोदी अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ भारत की भविष्य की गतिविधियों पर अपना ‘विजन’ पेश कर रहे हैं .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!