RS में आनंद शर्मा, येचुरी का भाषण

नई दिल्ली | संवाददाता: राज्यसभा में कांग्रेस तथा माकपा ने नोटबंदी पर मोदी सरकार को जमकर घेरा. कांग्रेस की ओर से आनंद शर्मा तथा माकपा की ओर से सीताराम येचुरी ने नोटबंदी पर हस्तक्षेप किया. पेश है दोनों के भाषण के उपलब्ध अंश-

देश भर में 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट बंद करने के फैसले और उसके प्रभाव पर राज्यसभा में चर्चा की शुरुआत करते हुये आनंद शर्मा ने कहा, “आज, आप (प्रधानमंत्री) हमें बतायें कि आपको कौन धमका रहा है, कौन आपको मारना चाहता है, संसद को बतायें, हम इसे बर्दास्त नहीं कर सकते. अगर प्रधानमंत्री की जान को खतरा है तो पूरा सदन इसकी निंदा करता है.”


इसके साथ ही कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार ने पिछले हफ्ते 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट अचानक बंद कर देश में ‘आर्थिक अराजकता’ पैदा कर दी, और आज लाखों लोग नकदी के लिए बैंकों और एटीएम की कतार में खड़े हैं. उन्होंने कहा, “आपने ऐसा माहौल बना दिया है, जहां कोई सवाल नहीं कर सकता है. अगर आप सवाल पूछते हैं, तो आपकी देशभक्ति पर सवाल उठाया जाता है.”

वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा कि आतंकवाद, काला धन, भ्रष्टाचार, नकली मुद्रा के मुद्दे पर पूरा सदन एकजुट है और इसमें कोई दो राय नहीं है, लेकिन प्रधानमंत्री की अचानक की गई इस घोषणा से देश में आपात स्थित पैदा हो गई है और लोग बुरी तरह परेशान हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार ने न सिर्फ आर्थिक अराजकता पैदा की, बल्कि नगदी से चलने वाली अर्थव्यवस्था की रीढ़ ही तोड़ दी.

Congress Leader Anand Sharma Firing Speech On Currency Ban |

माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने नोटबंदी को लेकर कहा कि पीएम कहते हैं क्रेडिट कार्ड से खाना खाओ, वह किसका मजाक उड़ा रहे हैं. दिहाड़ी मजदूर पर इसका बहुत बुरा असर पड़ा है. हमारी 86% फीसदी नकदी का विमुद्रीकरण कर दिया गया और आज देश 14% नकद पर जिंदा हैं.

उन्होंने कहा, “फ्रांसीसी क्रांति के समय मैरी एंटोनेट ने कहा था, अगर आपके पास रोटी नहीं तो केक खायें. अब मोदी जी कहते हैं कि अगर आपके पास पेपर करेंसी नहीं, तो प्लास्टिक करेंसी से भुगतान करें.”

सीताराम येचुरी ने कहा असम में परसों उपचुनाव है, सो वहां के चाय बगानों के लिये सरकार ने छूट दी है, लेकिन बंगाल को क्यों नहीं, यह जांच का विषय है. उन्होंने दावा किया कि महाराष्ट्र में आपने सिनेमा टिकट खरीदने के लिए पुराने नोटों के इस्तेमाल की इजाजत दी, लेकिन खाने के लिये नहीं. आप खाना नहीं खऱीद सकते, टिकट खरीद सकते हैं. इस तरह की छूट को लेकर आपने कैसे फैसला लिया. यह नकली नोटों पर रोक लगाने का सही तरीका नहीं है. ये तो वही बात हो गई छोटी मछलियां मर रही हैं और मगरमच्छ मजे कर रहे हैं.

Sitaram Yechury’s comments on the Demonetisation of Currency

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!