मोर सेक्स नहीं करता-जस्टिस शर्मा

नई दिल्ली | संवाददाता: राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस महेश चंद्र शर्मा मोर के सेक्स संबंधी अपने बयान को लेकर सोशल मीडिया में ट्रेंड कर रहे हैं.अपनी सेवानिवृत्ति वाले दिन शर्मा ने जो फैसला दिया, उसकी तो चर्चा हो ही रही है, इसके अलावा मोर के सेक्स नहीं करने संबंधी उनके बयान पर भी मीडिया में चुटकियां ली जा रही हैं.

बुधवार को राजस्थान हाई कोर्ट के जस्टिस महेश चंद्र शर्मा ने एक फैसले में कहा था कि गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए और गोहत्या करने वालों को आजीवन कारावास की सजा का प्रावधान किया जाना चाहिए. शर्मा ने यह फैसला उस दिन दिया, जब वे रिटायर हो रहे थे.


लेकिन शर्मा के इस बयान से कहीं अधिक चर्चा उनके मोर सेक्स नहीं करता संबंधी उनके बयान की हो रही है.

शर्मा ने मीडिया से बातचीत में कहा-‘हमने मोर को राष्ट्रीय पक्षी क्यों घोषित किया. इसलिए क्योंकि मोर आजीवन ब्रह्मचारी रहता है. इसके जो आंसू आते हैं, मोरनी उसे चुग कर गर्भवती होती है. मोर कभी भी मोरनी के साथ सेक्स नहीं करता. मोर पंख को भगवान कृष्ण ने इसलिए लगाया क्योंकि वह ब्रह्मचारी है. साधु संत भी इसलिए मोर पंख का इस्तेमाल करते हैं. मंदिरों में इसलिए मोर पंख लगाया जाता है. ठीक इसी तरह गाय के अंदर भी इतने गुण हैं कि उसे राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए.’

उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा-गाय को लेकर इस वक़्त देश में चल रही बहस राजनीतिक है, लेकिन मेरा आदेश न्यायिक है. दोनों में अंतर होता है. मेरा आदेश, मेरी आत्मा की भावना पर आधारित है और देश के तमाम हिंदुओं की आत्मा की भावना पर आधारित है.

जस्टिस शर्मा ने गाय को लेकर जो फैसला दिया है, उसमें गाय के निम्ण गुण गिनाये हैं-
1. उन्होंने कहा कि माना जाता है कि गाय के अंदर 33 करोड़ देवी-देवता निवास करते हैं और हिंदू पौराणिक कथाओं में समुद्र मंथन के समय गाय देवी लक्ष्मी के साथ दिखाई दी थी.
2. गाय एकमात्र ऐसी पशु है जो ऑक्सीजन ग्रहण करती है और ऑक्सीजन ही छोड़ती है.
3. गौमूत्र से लीवर, दिल और दिमाग स्वस्थ रहता है और यह शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है. यह भी उम्र बढ़ने की दर को भी धीमा करता है.
4. गौमूत्र से पिछले जन्म के किए पापों से भी मुक्ति मिलती है.
5. जज ने कहा कि एक रूस के वैज्ञानिक के मुताबिक गाय के गोबर से घर की दीवारों को लेपने से घर में रहने वाले विकिरण से बचे रहते हैं.
6. गाय अपने सींग के माध्यम से कॉस्मिक एनर्जी को अवशोषित करती है.
7. गाय के दूध का सेवन कैंसर को रक्त कोशिकाओं में प्रवेश करने से रोकता है.
8. गाय के गोबर से हैजा के रोगाणुओं को मारने में सहायक होता है.
9. गाय के गोबर से हर साल 4500 लीटर बायोगैस पैदा की जाती है. उन्होंने कहा कि अगर गोवंश से देश में बायोगैस उत्पन्न की जाती है 6.80 लाख टन की लकड़ी को जलने से और 14 करोड़ पेड़ों को कटने से बचाया जा सकता है.
10. गाय एकमात्र स्तनपायी है जिसकी बड़ी आंत 180 फीट लंबी है, जिसके कारण गाय के दूध में केरोटिन होता है जो मानव शरीर में विटामिन ए उत्पन्न करता है
11. गाय का रांभना (Mooing) हवा में मौजूद रोगाणुओं को मारता है.

जस्टिस शर्मा के इस बयान पर कि मोर सेक्स नहीं करता; को लेकर सोशल मीडिया में खूब मजाक बनाया जा रहा है. यह वैज्ञानिक तथ्य है कि दूसरे जीव-जंतु की तरह मोर भी दूसरे पक्षियों की तरह सेक्स करता है और मोरनी अंडे देती है, जिनसे बच्चे पैदा होते हैं. जस्टिस शर्मा के इस अंधविश्वास फैलाने वाले बयान के बाद जस्टिस शर्मा के पूर्व में दिये गये फैसलों के पुनर्परिक्षण की बात कही जा रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!