सबज़ार था आतंक का दूसरा नाम

कश्मीर | डेस्क: कश्मीर के त्राल में सुरक्षाबलों के साथ गोलीबारी में मारा गया सबज़ार खूंखार आतंकी रहा है. हिज़्बुल मुजाहिदीन कमांडर सबज़ार अहमद बट ने ही बुरहान वानी के बाद भारत में इसकी कमान संभाली थी. पुलिस का कहना है कि इस आतंकी ने पिछले 6 सालों में हिज़्बुल मुजाहिदीन मे अपनी खास जगह बनाई थी और सैकड़ों कश्मीरी नौजवानों को इसने जेहाद के नाम पर घाटी में उतारा था.

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने जो बयान जारी किया है, उसके अनुसार बीती शाम सोइमोह त्राल इलाक़े में चरमपंथियों ने सेना के 42 राष्ट्रीय राइफ़ल के पैट्रोलिंग वाहन पर फ़ायरिंग की, जिसकी जवाबी फ़ायरिंग के बाद चरमपंथी आस-पास के घरों में छिप गए. इसके बाद 42 आरआर राइफ़ल, अवंतीपोरा पुलिस और सीआरपीएफ ने इलाक़े को घेरते हुए एक साझा सर्च ऑपरेशन चलाया गया.


पुलिस के अनुसार इसके बाद छिपे हुए चरमपंथियों ने दोबारा फ़ायरिंग की. दोनों तरफ़ से हुई गोलीबारी में हिज़्बुल मुजाहिदीन के दो चरमपंथी सबज़ार अहमद बट और फ़ैज़ान मुज़फ़्फ़र मारे गए.

6 साल पहले हिज़्बुल मुजाहिदीन से जुड़े सबज़ार अहमद बट ने 6 साल पहले त्राल में सीआरपीएफ के एक जवान से उसकी रायफल छीन ली थी, इसके बाद से ही वह चर्चा में आया था. पिछले साल बुरहान वानी के मारे जाने के बाद उसे बुरहान वानी की जगह सौंपी गई थी. सबज़ार ने कोई खास पढ़ाई नहीं की थी. लेकिन कश्मीर में उसका खासा आतंक रहा है.

इधर सबजार के मारे जाने के बाद कश्मीर में फिर से बुरहान वानी जैसे हालात पैदा हो गये हैं. कश्मीर में कई जगह प्रदर्शन की खबर है. इसके कारण कई इलाकों में पुलिस ने गश्त तेज़ कर दी है. कुछ इलाकों में कर्फ्यू जैसे हालात भी बने हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!